बढ़ी जब से रोशनी घर …

बढ़ी जब से रोशनी घर में
दिखी रिश्तों की दूरी घर में।

दादा दादी पूरा नहीं जाते
छोड़ जाते हैं छड़ी घर में।

वक्त से हिसाब किया ऐसे
रखता नहीं हूँ घड़ी घर में।

वक्त पे लौटा जो हँसते हुए
परेशाँ से हुए सभी घर में।

खिल उठी आँगन में तुलसी
आनेवाली है परी घर में।

सुनायी दी जाड़े की दस्तक
दिखीं सब्जियाँ हरी घर में।

#नीलाभ

बढ़ी जब से रोशनी घर में
दिखी रिश्तों की दूरी घर में।

दादा दादी पूरा नहीं जाते
छोड़ जाते हैं छड़ी घर में।

वक्त से हिसाब किया ऐसे
रखता नहीं हूँ घड़ी घर में।

वक्त पे लौटा जो हँसते हुए
परेशाँ से हुए सभी घर में।

खिल उठी आँगन में तुलसी
आनेवाली है परी घर में।

सुनायी दी जाड़े की दस्तक
दिखीं सब्जियाँ हरी घर में।

#नीलाभ

Posted by | View Post | View Group

हम तुझे भुलाने की …

हम तुझे भुलाने की मुसलसल कोशिश करते हैं…
हमारी रफ्तार धीमी है जरा सा वक्त दो हमको…!!
.
SHoaiB

हम तुझे भुलाने की मुसलसल कोशिश करते हैं…
हमारी रफ्तार धीमी है जरा सा वक्त दो हमको…!!
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

जो है आदमी की दवा …

जो है आदमी की दवा आदमी
आदमी को क्यूँ खला आदमी।

निशानी जिस्म पे जिंदगी की
अंदर ही अंदर मरा आदमी।

अना का भी वजन होता है
इक आदमी में सवा आदमी।

बचपन ,जवानी और बुढ़ापा
कितने ही जंग लड़ा आदमी।

चेहरे पे मंजर है बागवां का
गुमसुम अंदर पड़ा आदमी।

दीवारों में ही उसे बाँध कर
आदमी का अब खुदा आदमी।

दो मज़हब हैं, अमीरी गरीबी
महल झोंपड़ी में बँटा आदमी।

लुट गया धीरे धीरे पूरा ही वो
शायद होगा कोई भला आदमी।

रात ख़्वाबों से लड़ थक कर
सुबह सुबह ही ढला आदमी।

किरदारों की सुन सुन कर
खुद ही खुद में टला आदमी।

#नीलाभ

जो है आदमी की दवा आदमी
आदमी को क्यूँ खला आदमी।

निशानी जिस्म पे जिंदगी की
अंदर ही अंदर मरा आदमी।

अना का भी वजन होता है
इक आदमी में सवा आदमी।

बचपन ,जवानी और बुढ़ापा
कितने ही जंग लड़ा आदमी।

चेहरे पे मंजर है बागवां का
गुमसुम अंदर पड़ा आदमी।

दीवारों में ही उसे बाँध कर
आदमी का अब खुदा आदमी।

दो मज़हब हैं, अमीरी गरीबी
महल झोंपड़ी में बँटा आदमी।

लुट गया धीरे धीरे पूरा ही वो
शायद होगा कोई भला आदमी।

रात ख़्वाबों से लड़ थक कर
सुबह सुबह ही ढला आदमी।

किरदारों की सुन सुन कर
खुद ही खुद में टला आदमी।

#नीलाभ

Posted by | View Post | View Group

शायराना सी हैं …

Posted by | View Post | View Group

इतिहास गवाह है जो …

इतिहास गवाह है जो लोग अधूरी मोहब्बत करते है वो सुर्खियों में रहते हैं..😎

इतिहास गवाह है जो लोग अधूरी मोहब्बत करते है वो सुर्खियों में रहते हैं..😎

Posted by | View Post | View Group

तुमको तुम्हारी ये …

तुमको तुम्हारी ये खूबियाँ मुबारक,
कोई तो होगा जो मुझे लायक, समझेगा..😎

तुमको तुम्हारी ये खूबियाँ मुबारक,
कोई तो होगा जो मुझे लायक, समझेगा..😎

Posted by | View Post | View Group

आवश्यक है …

आवश्यक है
जमीर का हल्का होना
अगर भार उठाना हो
उन ख्वाहिशों का
जिन्हें खरीदा गया हो
झूठी उम्मीद बेचकर
कमाए गए
पैसों से।

#नीलाभ

आवश्यक है
जमीर का हल्का होना
अगर भार उठाना हो
उन ख्वाहिशों का
जिन्हें खरीदा गया हो
झूठी उम्मीद बेचकर
कमाए गए
पैसों से।

#नीलाभ

Posted by | View Post | View Group

मोहब्बत की आज यूँ …

मोहब्बत की आज यूँ बेबसी देखी!
उसने तस्वीर तो जलाई मगर राख नहीं फेंकी !!
#keval_______patel

मोहब्बत की आज यूँ बेबसी देखी!
उसने तस्वीर तो जलाई मगर राख नहीं फेंकी !!
#keval_______patel

Posted by | View Post | View Group

ये बदलता मौसम देख …

ये बदलता मौसम देख रही हो न डॉ साहिबा..
इससे भी अच्छा था मेरा यार जो बदल गया…!!
.
SHoaiB

ये बदलता मौसम देख रही हो न डॉ साहिबा..
इससे भी अच्छा था मेरा यार जो बदल गया…!!
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

परतें हट रहीं …

परतें हट रहीं हैं,कुछ खुलासा हुआ है
इक खुदा की मौत का हादसा हुआ है।

#नीलाभ

परतें हट रहीं हैं,कुछ खुलासा हुआ है
इक खुदा की मौत का हादसा हुआ है।

#नीलाभ

Posted by | View Post | View Group