सुनो सनम …

सुनो सनम

जुल्फें चाहे कितनी हंसीं क्यूँ न हो..

दुपट्टा शख़्सियत को चार चाँद लगा देता है..

#ऋषि

सुनो सनम

जुल्फें चाहे कितनी हंसीं क्यूँ न हो..

दुपट्टा शख़्सियत को चार चाँद लगा देता है..

#ऋषि

Posted by | View Post | View Group

वो अंजाम कितना …

वो अंजाम कितना सुहाना था
मुझे हारना ,तुम्हें हराना था।

दर्द वो था जैसे कोई कीचड़
जो कमल सा इक फसाना था।

सुन क्यूँ गए तुम आँखों से ही
मुझे जो लफ्जों से बताना था।

नशा जिंदगी का उतरा वहाँ
वहाँ पे ही इक मयखाना था।

प्यासों की उस बस्ती में तो
बड़ा ही बोझिल सा नहाना था।

वो गीत तुम सुन बैठे क्यूँ
जो देख तुम्हें मुझे गाना था।

जिसे कचरे में था डाल दिया
कुछ भूखे लोगों का खाना था।

न उसको कोई भी घर बोले
जहाँ महज़ जाना आना था।

चोरों की ही तो बस्ती निकली
जहाँ हमने सोचा कि थाना था।

मुकाम तुमने जिसको समझा
तुम्हें खींच वहीं से लाना था।

#नीलाभ

वो अंजाम कितना सुहाना था
मुझे हारना ,तुम्हें हराना था।

दर्द वो था जैसे कोई कीचड़
जो कमल सा इक फसाना था।

सुन क्यूँ गए तुम आँखों से ही
मुझे जो लफ्जों से बताना था।

नशा जिंदगी का उतरा वहाँ
वहाँ पे ही इक मयखाना था।

प्यासों की उस बस्ती में तो
बड़ा ही बोझिल सा नहाना था।

वो गीत तुम सुन बैठे क्यूँ
जो देख तुम्हें मुझे गाना था।

जिसे कचरे में था डाल दिया
कुछ भूखे लोगों का खाना था।

न उसको कोई भी घर बोले
जहाँ महज़ जाना आना था।

चोरों की ही तो बस्ती निकली
जहाँ हमने सोचा कि थाना था।

मुकाम तुमने जिसको समझा
तुम्हें खींच वहीं से लाना था।

#नीलाभ

Posted by | View Post | View Group

कड़क सर्दी में …

कड़क सर्दी में जलती हुई अलाव से हो तुम,
आँच हद से ज़्यादा हो तो भी दूर नहीं रहा जाता!
.
SHoaiB

कड़क सर्दी में जलती हुई अलाव से हो तुम,
आँच हद से ज़्यादा हो तो भी दूर नहीं रहा जाता!
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

कमियों ढूँढने के …

कमियों ढूँढने के बाजार लगे हैं…
अच्छाइयाँ बंद कोठरी मे पड़ी है…!!
.
SHoaiB

कमियों ढूँढने के बाजार लगे हैं…
अच्छाइयाँ बंद कोठरी मे पड़ी है…!!
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

खूँ दे कर भी भला …

खूँ दे कर भी भला होता है
यूँ ही नहीं करबला होता है।

मियाँ वो है पानी की बेचैनी
जहाँ भी बुलबुला होता है।

क्यूँ बुरा बोलें कीचड़ को
उसमें कमल खिला होता है।

दिलवाले कभी नहीं कहते
धोखा इश्क का सिला होता है।

क्यूँ न हो तिजारत रिश्तों में
दिल दिमाग से मिला होता है।

दे पाता है यहाँ रोशनी वही
जो खुद ही तो जला होता है।

पिता बन कर तुम देखोगे
बुरा बन कर भला होता है।

#नीलाभ

खूँ दे कर भी भला होता है
यूँ ही नहीं करबला होता है।

मियाँ वो है पानी की बेचैनी
जहाँ भी बुलबुला होता है।

क्यूँ बुरा बोलें कीचड़ को
उसमें कमल खिला होता है।

दिलवाले कभी नहीं कहते
धोखा इश्क का सिला होता है।

क्यूँ न हो तिजारत रिश्तों में
दिल दिमाग से मिला होता है।

दे पाता है यहाँ रोशनी वही
जो खुद ही तो जला होता है।

पिता बन कर तुम देखोगे
बुरा बन कर भला होता है।

#नीलाभ

Posted by | View Post | View Group

इसे इत्तेफाक समझो …

इसे इत्तेफाक समझो या दर्दनाक हकीकत.

आँख जब भी नम हुई वजह कोई अपना ही निकला.

#ऋषि

इसे इत्तेफाक समझो या दर्दनाक हकीकत.

आँख जब भी नम हुई वजह कोई अपना ही निकला.

#ऋषि

Posted by | View Post | View Group

सुनो सनम. …

सुनो सनम.
नए लड़के के साथ जो तस्वीर डाली है तुमने,
उसमें जो झुमका पहना है,

वो हमारी पहली मुलाकात का तोहफा था ना?

#ऋषि

सुनो सनम.
नए लड़के के साथ जो तस्वीर डाली है तुमने,
उसमें जो झुमका पहना है,

वो हमारी पहली मुलाकात का तोहफा था ना?

#ऋषि

Posted by | View Post | View Group

मुझे बेरुखी दिखाने …

मुझे बेरुखी दिखाने वाले को..!

अक्सर देखा हैं मैंने ,

औरों के साथ खुल कर हँसते हुए..!
#keval_______patel

मुझे बेरुखी दिखाने वाले को..!

अक्सर देखा हैं मैंने ,

औरों के साथ खुल कर हँसते हुए..!
#keval_______patel

Posted by | View Post | View Group