Dariya

बडे लोगों से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना
जहां दरिया समन्दर में मिले, दरिया नहीं रहता

Posted by | View Post | View Group

Muhabbat ek khushbu hai

मोहब्बत एक खुशबू है, हमेशा साथ रहती है
कोई इन्सान तन्हाई में भी कभी तन्हा नहीं रहता

Posted by | View Post | View Group

Parakhna mat

परखना मत, परखने में कोई अपना नहीं रहता
किसी भी आईने में देर तक चेहरा नहीं रहता

बडे लोगों से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना
जहां दरिया समन्दर में मिले, दरिया नहीं रहता

हजारों शेर मेरे सो गये कागज की कब्रों में
अजब मां हूं कोई बच्चा मेरा ज़िन्दा नहीं रहता

तुम्हारा शहर तो बिल्कुल नये अन्दाज वाला है
हमारे शहर में भी अब कोई हमसा नहीं रहता

मोहब्बत एक खुशबू है, हमेशा साथ रहती है
कोई इन्सान तन्हाई में भी कभी तन्हा नहीं रहता

कोई बादल हरे मौसम का फ़िर ऐलान करता है
ख़िज़ा के बाग में जब एक भी पत्ता नहीं रहता

बशीर बद्र

—————————————————————————————————————-

Parakhna mat parakhne mein koi apna nahin rahta
Kisi bhi aine mein der tak chehra nahin rahta

Bade logon se milne mein hamesha faslaa rakhna
Jahan dariya samandar me mile dariya nahin rahta

Hazaaron sher mere so gaye kaghaz ki qabron mein
Ajab maan hun koi bachcha mera zinda nahin rahta

Tumhara shehr to bilkul naye andaz wala hai
Hamare shehr mein bhi koi hamsa nahin rahta

Mohabbat ek khushboo hai hamesha saath chalti hai
Koi insaan tanhai mein bhi tanha nahin rahta

Koi badal hare mausam ka phie elaan karta hai
Khiza ke baag me jab ek bhi patta nahi rahta

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group

Hoton pe mohabbat

होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते
साहिल पे समंदर के ख़ज़ाने नहीं आते।

पलके भी चमक उठती हैं सोते में हमारी
आंखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते।

दिल उजडी हुई इक सराय की तरह है
अब लोग यहां रात बिताने नहीं आते।

उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में
फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते।

इस शहर के बादल तेरी जुल्फ़ों की तरह है
ये आग लगाते है बुझाने नहीं आते।

क्या सोचकर आए हो मुहब्बत की गली में
जब नाज़ हसीनों के उठाने नहीं आते।

अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गये है
आते है मगर दिल को दुखाने नहीं आते।

बशीर बद्र

———————————————————————————————————-

Hoton pe mohabbat key fasane nahin aate
Sahil pe samandar key khazane nahin aate

Palken bhi chamk uthti hein sote mein hamaari
Aankhon ko abhi khuwab chhupane nahin aate

Dil uj di hui eik saraye ki tarah hai
Ab log yahan raat jagane nahin aate

Udne do parindon ko abhi shokh hawa mein
Phir laut key bachpan key zamane nahin aate

Is shehr key baadal teri zulfon ki tarah hein
Ye aag lagate hein bujhane nahin aate

Kya soch ke aaye ho mohabbat ki gali me
Jab naaz hasino ke uthaane nahi aate

Ahbab bhi Ghairon ki ada seekh gaye hein
Aate hain magar dil ko dukhane nahin aate

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group

Gharo pe naam the

घरों पे नाम थे, नामों के साथ ओहदे थे
बहुत तलाश किया, कोई आदमी न मिला

Posted by | View Post | View Group

Mohabbaton mein dikhawe ki dosti

मोहब्बतों में दिखावे की दोस्ती न मिला
अगर गले नहीं मिलता, तो हाथ भी न मिला

घरों पे नाम थे, नामों के साथ ओहदे थे
बहुत तलाश किया, कोई आदमी न मिला

तमाम रिश्तों को मैं, घर में छोड़ आया था
फिर इसके बाद मुझे, कोई अजनबी न मिला

ख़ुदा की इतनी बड़ी कायनात में मैंने
बस एक शख़्स को मांगा, मुझे वही न मिला

बहुत अजीब है ये कुरबतों की दूरी भी
वो मेरे साथ रहा, और मुझे कभी न मिला

बशीर बद्र

——————————————————————————————————————–

Mohabbaton mein dikhawe ki dosti na mila
Agar gale nahin milta to haath bhi na mila

Gharon pe naam they, naamon key saath ohde they
Bahut talaash kiya koi aadmi na mila

Tamaam rishton ko main ghar pe chhod aaya tha
Phir uske baad mujhe koi ajnabi na mila

Khuda ki itni badi kaaynat mein maine
Bas eik shakhs ko manga mujhe wohi na mila

Bahut ajeeb hai ye qurbaton ki doori bhi
Wo mere saath raha aur mujhe kabhi na mila

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group