Gulzaar

माना कि इस ज़मीं को न गुलज़ार कर सके, 
कुछ ख़ार कम कर गए गुज़रे जिधर से हम| 

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Nazar

ले दे के अपने पास फ़क़त एक नज़र तो है, 
क्यूँ देखें ज़िन्दगी को किसी की नज़र से हम|

Posted by | View Post | View Group

Khuda

तेरा ज़िक्र..तेरी फ़िक्र..तेरा एहसास..तेरा ख्याल…
तू खुदा तो नहीं…. फिर हर जगह क्यों  है…!!

Posted by | View Post | View Group

Daag duniya ne diye

दाग़ दुनिया ने दिए जख़्म ज़माने से मिले
हम को तोहफे ये तुम्हें दोस्त बनाने से मिले

हम तरसते ही तरसते ही तरसते ही रहे
वो फलाने से फलाने से फलाने से मिले

ख़ुद से मिल जाते तो चाहत का भरम रह जाता
क्या मिले आप जो लोगों के मिलाने से मिले

माँ की आगोश में कल मौत की आगोश में आज
हम को दुनिया में ये दो वक़्त सुहाने से मिले

इक नया जख़्म मिला एक नई उम्र मिली
जब किसी शहर में कुछ यार पुराने से मिले

एक हम ही नहीं फिरते हैं लिए किस्सा-ए-ग़म
उन के ख़ामोश लबों पर भी फ़साने से मिले

कैसे माने के उन्हें भूल गया तू ऐ ‘कैफ’
उन के ख़त आज हमें तेरे सिरहाने से मिले

-कैफ़ भोपाली

Posted by | View Post | View Group

Nazar se dur

नज़र से दूर ना हो दिल से उतर जायेगा
वक़्त का क्या है गुजरता है गुज़र जायेगा

#अहमद_फ़राज़    #Ahmed_Faraz

Posted by | View Post | View Group

Dil ka diya

बैठे है रहगुज़र पर दिल का दिया जलाये
शायद वो दर्द जाने, शायद वो लौट आये

#कैफ़ी_आज़मी    #Kaifi_Azmi

Posted by | View Post | View Group