Besan ki sondhi roti par

बेसन की सोंधी रोटी पर 
खट्टी चटनी जैसी माँ 

याद आती है चौका-बासन 
चिमटा फुकनी जैसी माँ 

बाँस की खुर्री खाट के ऊपर 
हर आहट पर कान धरे 

आधी सोई आधी जागी 
थकी दोपहरी जैसी माँ 

चिड़ियों के चहकार में गूंजे
राधा-मोहन अली-अली 

मुर्ग़े की आवाज़ से खुलती 
घर की कुंडी जैसी माँ 

बिवी, बेटी, बहन, पड़ोसन 
थोड़ी थोड़ी सी सब में 

दिन भर इक रस्सी के ऊपर 
चलती नटनी जैसी माँ 

बाँट के अपना चेहरा, माथा, 
आँखें जाने कहाँ गई 

फटे पुराने इक अलबम में 
चंचल लड़की जैसी माँ

Nida fazli

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Besan ki sondhi roti par

बेसन की सोंधी रोटी पर 
खट्टी चटनी जैसी माँ 

याद आती है चौका-बासन 
चिमटा फुकनी जैसी माँ 

बाँस की खुर्री खाट के ऊपर 
हर आहट पर कान धरे 

आधी सोई आधी जागी 
थकी दोपहरी जैसी माँ 

चिड़ियों के चहकार में गूंजे
राधा-मोहन अली-अली 

मुर्ग़े की आवाज़ से खुलती 
घर की कुंडी जैसी माँ 

बिवी, बेटी, बहन, पड़ोसन 
थोड़ी थोड़ी सी सब में 

दिन भर इक रस्सी के ऊपर 
चलती नटनी जैसी माँ 

बाँट के अपना चेहरा, माथा, 
आँखें जाने कहाँ गई 

फटे पुराने इक अलबम में 
चंचल लड़की जैसी माँ

Nida fazli

Posted by | View Post | View Group

Kabhi kisi ko mukkamal jaha nahi milta

कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता
कहीं ज़मीं तो कहीं आसमाँ नहीं मिलता

जिसे भी देखिये वो अपने आप में गुम है
ज़ुबाँ मिली है मगर हमज़ुबा नहीं मिलता

बुझा सका है भला कौन वक़्त के शोले
ये ऐसी आग है जिस में धुआँ नहीं मिलता

तेरे जहान में ऐसा नहीं कि प्यार न हो
जहाँ उम्मीद हो इस की वहाँ नहीं मिलता

Nida fazli

Posted by | View Post | View Group

Kabhi kisi ko mukkamal jaha nahi milta

कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता
कहीं ज़मीं तो कहीं आसमाँ नहीं मिलता

जिसे भी देखिये वो अपने आप में गुम है
ज़ुबाँ मिली है मगर हमज़ुबा नहीं मिलता

बुझा सका है भला कौन वक़्त के शोले
ये ऐसी आग है जिस में धुआँ नहीं मिलता

तेरे जहान में ऐसा नहीं कि प्यार न हो
जहाँ उम्मीद हो इस की वहाँ नहीं मिलता

Nida fazli

Posted by | View Post | View Group

Gali

यूं उठे आह उस गली से हम
जैसे कोई जहाँ से उठता है

Posted by | View Post | View Group

Kagaz

मेरे रोने की हकीकत जिस में थी
एक मुद्दत तक वो क़ाग़ज़ नम रहा

Posted by | View Post | View Group

Gham

ग़म रहा जब तक कि दम में दम रहा
दिल के जाने का निहायत ग़म रहा 

Posted by | View Post | View Group

Aankhe

‘मीर’ उन नीमबाज़ आँखों में,
सारी मस्ती शराब की सी है ।

Posted by | View Post | View Group