Ghazlon ka hunar

ग़ज़लों का हुनर अपनी आँखों को सिखाएंगे
रोयेंगे बहुत लेकिन आंसू नहीं आयेंगे

कह देना समंदर से हम ओस के मोती है
दरया कि तरह तुझ से मिलने नहीं आयेंगे

वो धुप के छप्पर हों या छाओं कि दीवारें
अब जो भी उठाएंगे मिल जुल के उठाएंगे

जब साथ न दे कोई आवाज़ हमे देना
हम फूल सही लेकिन पत्थर भी उठाएंगे

बशीर बद्र

————————————————————————————————————————————–

Ghazlon ka hunar apni aankhon ko sikhayenge
Royenge bahut lekin aansu nahin ayenge

Kah dena samandar se ham os ke moti hain
Darya ki tarah tujh se milne nahin ayenge

Wo dhoop key chhappar hon ya chhaon ki deewaren
Ab jo bhi uthayenge mil jul ke uthayenge

Jab saath na de koi aawaz hamein dena
Ham phool sahi lekin patthar bhi uthayenge

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group

Ghazlon ka hunar

ग़ज़लों का हुनर अपनी आँखों को सिखाएंगे
रोयेंगे बहुत लेकिन आंसू नहीं आयेंगे

कह देना समंदर से हम ओस के मोती है
दरया कि तरह तुझ से मिलने नहीं आयेंगे

वो धुप के छप्पर हों या छाओं कि दीवारें
अब जो भी उठाएंगे मिल जुल के उठाएंगे

जब साथ न दे कोई आवाज़ हमे देना
हम फूल सही लेकिन पत्थर भी उठाएंगे

बशीर बद्र

————————————————————————————————————————————–

Ghazlon ka hunar apni aankhon ko sikhayenge
Royenge bahut lekin aansu nahin ayenge

Kah dena samandar se ham os ke moti hain
Darya ki tarah tujh se milne nahin ayenge

Wo dhoop key chhappar hon ya chhaon ki deewaren
Ab jo bhi uthayenge mil jul ke uthayenge

Jab saath na de koi aawaz hamein dena
Ham phool sahi lekin patthar bhi uthayenge

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group

Mere baare me

मेरे बारे में हवाओं से वो कब पूछेगा
खाक जब खाक में मिल जाऐगी तब पूछेगा

घर बसाने में ये खतरा है कि घर का मालिक
रात में देर से आने का सबब पूछेगा

अपना गम सबको बताना है तमाशा करना,
हाल-ऐ- दिल उसको सुनाएँगे वो जब पूछेगा

जब बिछडना भी तो हँसते हुए जाना वरना,
हर कोई रुठ जाने का सबब पूछेगा

हमने लफजों के जहाँ दाम लगे बेच दिया,
शेर पूछेगा हमें अब न अदब पूछेगा

बशीर बद्र

—————————————————————————————————————

Mere baare me hawaaon se wo kab puchega
khaak jab khaak me mil jayegi tab puchega

Ghar basane me ye khatra hai ki ghar ka maalik
Raat me der se aane ka sabab puchega

Apna gam sabko batana hai tamasha karna
Haal-E-Dil usko sunayenge wo jab puchega

Jab bicharna bhi ho to hanste hue jana warna
Har koi rooth jane ka sabab puchega

Humne lafzon ke jahaan daam lage bech diya
Sher puchega hume ab na adab puchega

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group

Mai kab kehta hoon

मै कब कहता हूँ वो अच्छा बहुत है
मगर उसने मुझे चाहा बहुत है

खुदा इस शहर को महफूज़ रखे
ये बच्चों की तरह हँसता बहुत है

मै तुझसे रोज़ मिलना चाहता हूँ
मगर इस राह में खतरा बहुत है

मेरा दिल बारिशों में फूल जैसा
ये बच्चा रात में रोता बहुत है

इसे आंसू का एक कतरा न समझो
कुँआ है और ये गहरा बहुत है

उसे शोहरत ने तनहा कर दिया है
समंदर है मगर प्यासा बहुत है

मै एक लम्हे में सदियाँ देखता हूँ
तुम्हारे साथ एक लम्हा बहुत है

मेरा हँसना ज़रूरी हो गया है
यहाँ हर शख्स संजीदा बहुत है

बशीर बद्र

————————————————————————————————————-

Mai kab kehta hoon wo accha bahut hai
Magar usne mujhe chaha bahut hai

Khuda is sehar ko mehfooz rakhe
Ye bachon ki tarah hansta bahut hai

Mai tujhse roz milna chahta hoon
Magar is raah me khatra bahut hai

Mera dil barishon me phool jaisa
Ye bacha raat me rota bahut hai

Isey aansu ka ik katra na smjho
Kooaan hai aur ye gehra bahut hai

Usey sohrat ne tanha kar diya hai
Samandar hai magar pyasa bahut hai

Mai ek lamhe me sadiyaan dekhta hoon
Tumhare sath ek lamha bahut hai

Mera hassna zaruri ho gya hai
Yahaan har shaksh sanzeeda bahut hai

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group

Patthar

पत्थर मुझे कहता है मेरा चाहने वाला
मैं मोम हूँ उसने मुझे छूकर नहीं देखा

Posted by | View Post | View Group

Aankhon me raha

आँखों में रहा दिल में उतरकर नहीं देखा
कश्ती के मुसाफ़िर ने समन्दर नहीं देखा

बेवक़्त अगर जाऊँगा, सब चौंक पड़ेंगे
इक उम्र हुई दिन में कभी घर नहीं देखा

जिस दिन से चला हूँ मेरी मंज़िल पे नज़र है
आँखों ने कभी मील का पत्थर नहीं देखा

ये फूल मुझे कोई विरासत में मिले हैं
तुमने मेरा काँटों-भरा बिस्तर नहीं देखा

पत्थर मुझे कहता है मेरा चाहने वाला
मैं मोम हूँ उसने मुझे छूकर नहीं देखा

बशीर बद्र

——————————————————————————————————————

Aankhon me raha dil me utar kar nahi dekha
Kashti ke musafir ne samundar nahi dekha

Bewaqt agar jaunga sab chounk parhenge
Ik umar hui din me kabhi ghar nahi dekha

Jis din se chala hu meri manzil pe nazar hai
Aankhon ne kabhi meel ka pathar nahi dekha

Ye phool mujhe koi viraasat me mile hai
Tum ne mera kanto bhra bistar nahi dekha

Pathar mujhe kehta hai mera chahne wala
Mai mom hu usne mujhe chukar nahi dekha

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group

Kabhi to aasman se chand utre

कभी तो आसमाँ से चांद उतरे जाम हो जाये
तुम्हारे नाम की इक ख़ूबसूरत शाम हो जाये

हमारा दिल सवेरे का सुनहरा जाम हो जाये
चराग़ों की तरह आँखें जलें जब शाम हो जाये

अजब हालात थे यूँ दिल का सौदा हो गया आख़िर
मोहब्बत की हवेली जिस तरह नीलाम हो जाये

समंदर के सफ़र में इस तरह आवाज़ दो हमको
हवाएँ तेज़ हों और कश्तियों में शाम हो जाये

मैं ख़ुद भी एहतियातन उस गली से कम गुज़रता हूँ
कोई मासूम क्यों मेरे लिये बदनाम हो जाये

मुझे मालूम है उस का ठिकाना फिर कहाँ होगा
परिंदा आसमाँ छूने में जब नाकाम हो जाये

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो
न जाने किस गली में ज़िन्दगी की शाम हो जाये

बशीर बद्र

—————————————————————————————————————–

Kabhi to aasman se chand utre jaam ho jaaye
Tumhare naam ki ik khoobsurat shaam ho jaaye

Hamara dil savere ka sunhara jaam ho jaaye
Chargon kee tarah aankhein jale jab shaam ho jaaye

Ajab haalat the yun dil ka sauda ho gaya aakhir
Mohabbat ke haveli jis tarh neelam ho jaaye

Samandar ke safar mein iss tarah aawaz do humko
Hawayein tez ho aur kashtiyon mein shaam ho jaaye

Main khud bhee aihtiyaatan us gali se kam guzarata hun
Koi masoom kyun mere liye badnaam ho jaaye

Mujhe maloom ai us ka thikaana phir kahan hoga
Parinda aasmaan chunne mein jab naakam ho jaaye

Ujaale apni yaadon ke hamare saath rahne do
Na jaane kis gali mein zindagi kee shaam ho jaaye

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group

Wo chandni ka badan

वो चांदनी का बदन ख़ुशबुओं का साया है
बहुत अज़ीज़ हमें है मगर पराया है

Posted by | View Post | View Group

Muhabbat ka aitbaar

उसे किसी की मुहब्बत का ऐतबार नहीं
उसे ज़माने ने शायद बहुत सताया है

Posted by | View Post | View Group

Wo chandni ka badan

वो चांदनी का बदन ख़ुशबुओं का साया है
बहुत अज़ीज़ हमें है मगर पराया है

उतर भी आओ कभी आसमाँ के ज़ीने से
तुम्हें ख़ुदा ने हमारे लिये बनाया है

कहा से आई ये खुशबू ये घर की खुशबू है
इस अजनबी के अँधेरे में कौन आया है

महक रही है ज़मीं चांदनी के फूलों से
ख़ुदा किसी की मुहब्बत पे मुस्कुराया है

उसे किसी की मुहब्बत का ऐतबार नहीं
उसे ज़माने ने शायद बहुत सताया है

तमाम उम्र मेरा दम उसके धुएँ से घुटा
वो इक चराग़ था मैंने उसे बुझाया है

बशीर बद्र

———————————————————————————————

Wo chandni ka badan khushbuon ka saaya hai
Bahut aziz hamein hai magar paraya hai

Utar bhi aao kabhi aasman key zeene se
Tumhen khuda ne hamare liye banaya hai

Kahan se aai ye khushboo ye ghar ki khusboo hai
Is ajnabi ke andhere mein kaun aaya hai

Mahak rahi hai zamin chandni ke phoolon se
Khuda kisi ki mohabbat pe muskuraya hai

Use kisi ki mohabbat ka eitbar nahin
Use zamane ne shayad bahut sataya hai

Tamaam umar mera dam uske dhuen se ghuta
Wo ek chiragh tha maine use bujhaya hai

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group