Samne hai jo use log bura kehte hain

सामने है जो उसे लोग बुरा कहते हैं 

जिसको देखा ही नहीं उसको ख़ुदा कहते हैं 

ज़िन्दगी को भी सिला* कहते हैं कहनेवाले 

जीनेवाले तो गुनाहों की सज़ा कहते हैं 

फ़ासले उम्र के कुछ और बढा़ देती है 

जाने क्यूँ लोग उसे फिर भी दवा कहते हैं 

चंद मासूम से पत्तों का लहू है “फ़ाकिर” 

जिसको महबूब के हाथों की हिना* कहते हैं

* सिला – इनाम, उपहार 

* हिना – मेहंदी 

    सुदर्शन फ़ाकिर 

————————————————————————————————————————————

Samne hai jo use log bura kehte hain

Jisko dekha hi nahin usko khuda kehte hai 

Zindagai ko bhi sila kahte hai kahne wale

Jeene wale to gunahon ki saza kehte hain

Faasle umar ke kuchh aur badha deti hai

Jane kyun log use phir bhi dawa kehte hai 

Chand masoom se patton ka lahoo hai Faakir

Jisko mahboob ke haathon ki hina kehte hain

Sudarshan Faakir 

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Hai ajeeb shahr ki zindagi

है अजीब शहर कि ज़िंदगी, न सफ़र रहा न क़याम है
कहीं कारोबार सी दोपहर, कहीं बदमिज़ाज सी शाम है

कहाँ अब दुआओं कि बरकतें, वो नसीहतें, वो हिदायतें
ये ज़रूरतों का ख़ुलूस है, या मतलबों का सलाम है

यूँ ही रोज़ मिलने कि आरज़ू बड़ी रख रखाव कि गुफ्तगू
ये शराफ़ातें नहीं बे ग़रज़ उसे आपसे कोई काम है

वो दिलों में आग लगायेगा में दिलों कि आग बुझाऊंगा
उसे अपने काम से काम है मुझे अपने काम से काम है

न उदास हो न मलाल कर, किसी बात का न ख्याल कर
कई साल बाद मिले है हम, तिरे नाम आज कि शाम कर

कोई नग्मा धुप के गॉँव सा, कोई नग़मा शाम कि छाँव सा
ज़रा इन परिंदों से पूछना ये कलाम किस का कलाम है

बशीर बद्र

—————————————————————————————————————————————————

Hai ajeeb shahr ki zindagi, na safar raha na qayaam hai
Kahin karobar si dophar kahin badmizaj si shaam hai

Kahan ab duaon ki barkatein, wo naseehatein, wo hidayatein
Ye zaroraton ka khuloos hai, ye mataalbon ka salaam hai

Yun hi roz milne ki aarzo badi rakh rakhao ki guftgu
Ye sharaafatein nahin be gharaz use aapse koi kaam hai

Wo dilo mein aag lagaayega mein dilon ki aag bujhaunga
Use apne kaam se kaam hai mujhe apne kaam se kaam hai

Na udaas ho na malaal kar, kisi baat ka na khyal kar
kai saal baad mile hain ham, tire naam aaj ki shaam hai

Koi naghma dhoop key gaon sa koi naghma shaam ki chhaon sa
Zara in parindon se poochhna ye kalaam kis ka kalaam hai

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group

Aansuon se dhuli khushi

आंसुओं से धूलि ख़ुशी कि तरह 
रिश्ते होते है शायरी कि तरह
 
हम खुदा बन के आयेंगे वरना 
हम से मिल जाओ आदमी कि तरह 
 
बर्फ सीने कि जैसे – जैसे गली 
आँख खुलती गयी कली कि तरह 
 
जब  कभी बादलों में घिरता हैं 
चाँद लगता है आदमी कि तरह 
 
किसी रोज़ किसी दरीचे से 
सामने आओ रोशनी कि तरह 
 
सब नज़र  का फरेब है वरना 
कोई होता नहीं किसी कि तरह 
 
ख़ूबसूरत  उदास  ख़ौफ़ज़दा 
वोह भी है बीसवीं सदी कि तरह 
 
जानता हूँ कि एक दिन मुझको 
वो बदल देगा डायरी कि तरह 
 
बशीर बद्र 
 
——————————————————————————————-
Aansuon se dhuli khushi ki tarah
Rishte hote hain shayri ki tarah
 
Ham khuda ban key aayenge warna
Ham se mil jao aadmi ki tarah
 
Barf seene ki jaise jaise gali
Aankh khulti gayi kali ki tarah
 
Jab kabhi badlon me in ghirta hai
Chand lagta hai aadmi ki tarah
 
Kisi rozan kisi dareeche se
Saamne aao roshni ki tarah
 
Sab nazar ka fareb hai warna
Koi hota nahin kisi ki tarah
 
Khubsoorat udaas Khaufzada
Woh bhi hai beeswin sadi ki tarah
 
Janta hun ki eik din mujhko
wo badal dega dayri ki tarah
 
Bashir Badr 

Posted by | View Post | View Group

Khushboo ki tarah

खुशबू कि तरह आया वो तेज़ हवाओं में
मांगा था जिसे हमने दिन रात दुआओं में

तुम छत पे नहीं आये मै घर से नहीं निकला
ये चाँद बहुत भटका सावन कि घटाओं में

इस शहर में एक लड़की बिलकुल है ग़ज़ल जैसी
बिजली सी घटाओं में खुशबू सी हवाओं में

मौसम का इशारा है खुश रहने दो बच्चों को
मासूम मोहब्बत है फूलों कि खताओं में

भगवान् ही भेजेंगे चावल से भरी थाली
मज़लूम परिंदों कि मासूम सभाओं में

दादा बड़े भोले थे सब से यही कहते थे
कुछ ज़हर भी होता है अंग्रेजी दवाओं में

बशीर बद्र

————————————————————————————————————————————————

Khushboo ki tarah aaya wo tez hawaaon mein
Manga tha jise hamne din raat duaon mein

Turn chhat pe nahin aaye main ghar se nahi nikla
Ye chaand bahut bhatka saawan ki ghataaon mein

Is shahr mein ik ladki bilkul hai ghazal jaisi
Bijli si ghataon mein khushboo si hawaon mein

Mausam ka ishaara hai khush rahne do bachchon ko
Masoom mohabbat hai phoolon ki khataon mein

Bhagwaan hi bhejenge chawal se bhari thali
Mazloom parindon ki masoom sabhaon mein

Dada bade bhole the sab se yahi kahte the
Kuchh zahr bhi hota hai angrezi dawaaon mein

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group

Ghazlon ka hunar

ग़ज़लों का हुनर अपनी आँखों को सिखाएंगे
रोयेंगे बहुत लेकिन आंसू नहीं आयेंगे

कह देना समंदर से हम ओस के मोती है
दरया कि तरह तुझ से मिलने नहीं आयेंगे

वो धुप के छप्पर हों या छाओं कि दीवारें
अब जो भी उठाएंगे मिल जुल के उठाएंगे

जब साथ न दे कोई आवाज़ हमे देना
हम फूल सही लेकिन पत्थर भी उठाएंगे

बशीर बद्र

————————————————————————————————————————————–

Ghazlon ka hunar apni aankhon ko sikhayenge
Royenge bahut lekin aansu nahin ayenge

Kah dena samandar se ham os ke moti hain
Darya ki tarah tujh se milne nahin ayenge

Wo dhoop key chhappar hon ya chhaon ki deewaren
Ab jo bhi uthayenge mil jul ke uthayenge

Jab saath na de koi aawaz hamein dena
Ham phool sahi lekin patthar bhi uthayenge

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group

Ghazlon ka hunar

ग़ज़लों का हुनर अपनी आँखों को सिखाएंगे
रोयेंगे बहुत लेकिन आंसू नहीं आयेंगे

कह देना समंदर से हम ओस के मोती है
दरया कि तरह तुझ से मिलने नहीं आयेंगे

वो धुप के छप्पर हों या छाओं कि दीवारें
अब जो भी उठाएंगे मिल जुल के उठाएंगे

जब साथ न दे कोई आवाज़ हमे देना
हम फूल सही लेकिन पत्थर भी उठाएंगे

बशीर बद्र

————————————————————————————————————————————–

Ghazlon ka hunar apni aankhon ko sikhayenge
Royenge bahut lekin aansu nahin ayenge

Kah dena samandar se ham os ke moti hain
Darya ki tarah tujh se milne nahin ayenge

Wo dhoop key chhappar hon ya chhaon ki deewaren
Ab jo bhi uthayenge mil jul ke uthayenge

Jab saath na de koi aawaz hamein dena
Ham phool sahi lekin patthar bhi uthayenge

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group

Mere baare me

मेरे बारे में हवाओं से वो कब पूछेगा
खाक जब खाक में मिल जाऐगी तब पूछेगा

घर बसाने में ये खतरा है कि घर का मालिक
रात में देर से आने का सबब पूछेगा

अपना गम सबको बताना है तमाशा करना,
हाल-ऐ- दिल उसको सुनाएँगे वो जब पूछेगा

जब बिछडना भी तो हँसते हुए जाना वरना,
हर कोई रुठ जाने का सबब पूछेगा

हमने लफजों के जहाँ दाम लगे बेच दिया,
शेर पूछेगा हमें अब न अदब पूछेगा

बशीर बद्र

—————————————————————————————————————

Mere baare me hawaaon se wo kab puchega
khaak jab khaak me mil jayegi tab puchega

Ghar basane me ye khatra hai ki ghar ka maalik
Raat me der se aane ka sabab puchega

Apna gam sabko batana hai tamasha karna
Haal-E-Dil usko sunayenge wo jab puchega

Jab bicharna bhi ho to hanste hue jana warna
Har koi rooth jane ka sabab puchega

Humne lafzon ke jahaan daam lage bech diya
Sher puchega hume ab na adab puchega

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group

Mai kab kehta hoon

मै कब कहता हूँ वो अच्छा बहुत है
मगर उसने मुझे चाहा बहुत है

खुदा इस शहर को महफूज़ रखे
ये बच्चों की तरह हँसता बहुत है

मै तुझसे रोज़ मिलना चाहता हूँ
मगर इस राह में खतरा बहुत है

मेरा दिल बारिशों में फूल जैसा
ये बच्चा रात में रोता बहुत है

इसे आंसू का एक कतरा न समझो
कुँआ है और ये गहरा बहुत है

उसे शोहरत ने तनहा कर दिया है
समंदर है मगर प्यासा बहुत है

मै एक लम्हे में सदियाँ देखता हूँ
तुम्हारे साथ एक लम्हा बहुत है

मेरा हँसना ज़रूरी हो गया है
यहाँ हर शख्स संजीदा बहुत है

बशीर बद्र

————————————————————————————————————-

Mai kab kehta hoon wo accha bahut hai
Magar usne mujhe chaha bahut hai

Khuda is sehar ko mehfooz rakhe
Ye bachon ki tarah hansta bahut hai

Mai tujhse roz milna chahta hoon
Magar is raah me khatra bahut hai

Mera dil barishon me phool jaisa
Ye bacha raat me rota bahut hai

Isey aansu ka ik katra na smjho
Kooaan hai aur ye gehra bahut hai

Usey sohrat ne tanha kar diya hai
Samandar hai magar pyasa bahut hai

Mai ek lamhe me sadiyaan dekhta hoon
Tumhare sath ek lamha bahut hai

Mera hassna zaruri ho gya hai
Yahaan har shaksh sanzeeda bahut hai

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group

Patthar

पत्थर मुझे कहता है मेरा चाहने वाला
मैं मोम हूँ उसने मुझे छूकर नहीं देखा

Posted by | View Post | View Group

Aankhon me raha

आँखों में रहा दिल में उतरकर नहीं देखा
कश्ती के मुसाफ़िर ने समन्दर नहीं देखा

बेवक़्त अगर जाऊँगा, सब चौंक पड़ेंगे
इक उम्र हुई दिन में कभी घर नहीं देखा

जिस दिन से चला हूँ मेरी मंज़िल पे नज़र है
आँखों ने कभी मील का पत्थर नहीं देखा

ये फूल मुझे कोई विरासत में मिले हैं
तुमने मेरा काँटों-भरा बिस्तर नहीं देखा

पत्थर मुझे कहता है मेरा चाहने वाला
मैं मोम हूँ उसने मुझे छूकर नहीं देखा

बशीर बद्र

——————————————————————————————————————

Aankhon me raha dil me utar kar nahi dekha
Kashti ke musafir ne samundar nahi dekha

Bewaqt agar jaunga sab chounk parhenge
Ik umar hui din me kabhi ghar nahi dekha

Jis din se chala hu meri manzil pe nazar hai
Aankhon ne kabhi meel ka pathar nahi dekha

Ye phool mujhe koi viraasat me mile hai
Tum ne mera kanto bhra bistar nahi dekha

Pathar mujhe kehta hai mera chahne wala
Mai mom hu usne mujhe chukar nahi dekha

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group