Sharminda

शर्मिंदा हूँ उन  फूलों से,
जो मेरे हाथों में ही सूख गये,
तेरा इंतज़ार करते करते

Posted by | View Post | View Group