Bazaar

कभी कभी बाजा़र में यूँ भी हो जाता है
क़ीमत ठीक थी,जेब में इतने दाम नहीं थे

ऐसे ही इक बार मैं तुम को हार आया था।

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Muskurahat

तू रूठी रूठी सी लगती है, कोई तरकीब बता मनाने की
मैं ज़िन्दगी गिरवी रख दूं, तू क़ीमत तो बता मुस्कुराने की

Posted by | View Post | View Group