Bardasht

“कर लेता हूँ बर्दाश्त तेरा हर दर्द इसी आस के साथ..
की खुदा नूर भी बरसाता है, आज़माइशों के बाद”.!!!

Posted by | View Post | View Group

Sharminda

शर्मिंदा हूँ उन  फूलों से,
जो मेरे हाथों में ही सूख गये,
तेरा इंतज़ार करते करते

Posted by | View Post | View Group

Intzaar

इंतजार तो किसी का भी नहीं है अब,
_____फिर न जाने क्यों________
पीछे पलट कर देखने की आदत गई नहीं।

Posted by | View Post | View Group