Raat

रात पूरी जाग कर गुजार दूँ तेरी खातिर
एक बार कह कर तो देख,
कि मुझे भी तेरे बगैर,
नींद नही आती !!!

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Khat

इक ख़त कमीज़ में उसके नाम का क्या रखा,
क़रीब से गुज़रा हर शख्स पूछता है कौन सा इत्र है जनाब।।

Posted by | View Post | View Group

Gulzaar

माना कि इस ज़मीं को न गुलज़ार कर सके, 
कुछ ख़ार कम कर गए गुज़रे जिधर से हम| 

Posted by | View Post | View Group