Ashk

जिस तरह हँस रहा हूँ मैं पी-पी के अश्क-ए-ग़म 
यूँ दूसरा हँसे तो कलेजा निकल पड़े 

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Gham

ग़म रहा जब तक कि दम में दम रहा
दिल के जाने का निहायत ग़म रहा 

Posted by | View Post | View Group

Ummid

उससे मैं कुछ पा सकूँ ऐसी कहाँ उम्मीद थी 
ग़म भी वो शायद बरा-ए-मेहरबानी दे गया 

Posted by | View Post | View Group

Gham

कौन दोहराए वो पुरानी बात
ग़म अभी सोया है जगाए कौन 

Posted by | View Post | View Group

Bewafai

अपनी तबाहियों का मुझे कोई गम नहीं
तुमने किसी के साथ मुहब्बत निभा तो दी

Posted by | View Post | View Group

Bewafai

अपनी तबाहियों का मुझे कोई गम नहीं
तुमने किसी के साथ मुहब्बत निभा तो दी

Posted by | View Post | View Group