Muhabbat ka aitbaar

उसे किसी की मुहब्बत का ऐतबार नहीं
उसे ज़माने ने शायद बहुत सताया है

Posted by | View Post | View Group