अब आप लोग तैरना सीख …

अब आप लोग तैरना सीख लीजिए
क्योंकि अब मेरी पोस्ट और गहराई वाली होगीं😜😂
.
SHoaiB

अब आप लोग तैरना सीख लीजिए
क्योंकि अब मेरी पोस्ट और गहराई वाली होगीं😜😂
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

जरूरी नहीं चुभे …

जरूरी नहीं चुभे कोई बात ही,
बात ना होना भी चुभता है बड़ा..!!
.
SHoaiB

जरूरी नहीं चुभे कोई बात ही,
बात ना होना भी चुभता है बड़ा..!!
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

कोशिश तो बहुत थी कि …

कोशिश तो बहुत थी कि रात हदों में रहे
हम करवटों में रहे,तुम सिलवटों में रहे।

हमें नहीं मंजूर ताजमहल उनके लिए
ये क्या कि हो कैद इश्क मकबरों में रहे।

ऐ वाइज़ आ हाथ लगा झाड़ू पोंछे को भी
क्यूँ सारा ध्यान महज़ फलसफों में रहे।

क्या ख़ाक निपटाएंगे बस्तियों के मसले
वो जो ताउम्र हवेली और महलों में रहे।

जिंदगी मौत से बदतर कैसे,उनसे पूछो
जो अपनी मुहब्बत की नफरतों में रहे।

#नीलाभ

कोशिश तो बहुत थी कि रात हदों में रहे
हम करवटों में रहे,तुम सिलवटों में रहे।

हमें नहीं मंजूर ताजमहल उनके लिए
ये क्या कि हो कैद इश्क मकबरों में रहे।

ऐ वाइज़ आ हाथ लगा झाड़ू पोंछे को भी
क्यूँ सारा ध्यान महज़ फलसफों में रहे।

क्या ख़ाक निपटाएंगे बस्तियों के मसले
वो जो ताउम्र हवेली और महलों में रहे।

जिंदगी मौत से बदतर कैसे,उनसे पूछो
जो अपनी मुहब्बत की नफरतों में रहे।

#नीलाभ

Posted by | View Post | View Group

यहां ख़ुद से मिले …

यहां ख़ुद से मिले ज़माना हो गया
और लोग कहते हैं कि हमें भूल गए हो तुम
.
SHoaiB

यहां ख़ुद से मिले ज़माना हो गया
और लोग कहते हैं कि हमें भूल गए हो तुम
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

अब सोचता हूं कि …

अब सोचता हूं कि ज़िन्दगी में ठहराव होना चाहिए बहुत भाग लिए सबके पीछे आप लोग क्या सोचते हो..😎

अब सोचता हूं कि ज़िन्दगी में ठहराव होना चाहिए बहुत भाग लिए सबके पीछे आप लोग क्या सोचते हो..😎

Posted by | View Post | View Group

क्यूँ ना तुम ठण्ड …

क्यूँ ना तुम ठण्ड बन जाओ,

😘😘😘😘

कितना भी खुद को बचाऊ तुम लग जाओ !!
#keval_______patel
Tune mere janaa

क्यूँ ना तुम ठण्ड बन जाओ,

😘😘😘😘

कितना भी खुद को बचाऊ तुम लग जाओ !!
#keval_______patel
Tune mere janaa

Posted by | View Post | View Group

सारे नियम कानून हम …

सारे नियम कानून हम तो जान के बैठे हैं
क्या करें खुद को भी पहचान के बैठे हैं।

जोड़,घटाव,गुणा,भाग कर लो ताल्लुक का
ये इश्क ही है ,हम तो ये मान के बैठे हैं।

न कश्ती,न पुल हैं,हैं कितने ही भँवर इसमें
दरिया पार तो कर लेंगे,ये ठान के बैठे हैं।

तुम पत्थर के फूल,अलहदा ही मौसम है
हम भी इस पर्वत पे तम्बू तान के बैठे हैं।

#नीलाभ

सारे नियम कानून हम तो जान के बैठे हैं
क्या करें खुद को भी पहचान के बैठे हैं।

जोड़,घटाव,गुणा,भाग कर लो ताल्लुक का
ये इश्क ही है ,हम तो ये मान के बैठे हैं।

न कश्ती,न पुल हैं,हैं कितने ही भँवर इसमें
दरिया पार तो कर लेंगे,ये ठान के बैठे हैं।

तुम पत्थर के फूल,अलहदा ही मौसम है
हम भी इस पर्वत पे तम्बू तान के बैठे हैं।

#नीलाभ

Posted by | View Post | View Group

हिचकियों पे हँसी …

हिचकियों पे हँसी आयी है..
हमारी याद भला किसे आयी है..!!
.
SHoaiB

हिचकियों पे हँसी आयी है..
हमारी याद भला किसे आयी है..!!
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

गुफ्तगू करके तो …

गुफ्तगू करके तो देखिए साहिबा
अगर दिल के बुरे निकले तो ब्लॉक मार देना..😂
.
SHoaiB

गुफ्तगू करके तो देखिए साहिबा
अगर दिल के बुरे निकले तो ब्लॉक मार देना..😂
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

बिना बुजुर्गों के …

बिना बुजुर्गों के घर घर नहीं होता
इसमें कोई अगर मगर नहीं होता।

समंदर की गहराई सब में होती है
बस नापने का ही हुनर नहीं होता।

दो चार परिंदे भी तो हों शाखों पर
ऐसे ही मुकम्मल शजर नहीं होता।

दादा की तस्वीर ये याद दिलाती है
गाँव नहीं होता तो शहर नहीं होता।

शिवलिंगों पे ये सारे बाँध दिए जाते
इन नागों में अगर ज़हर नहीं होता।

#नीलाभ

बिना बुजुर्गों के घर घर नहीं होता
इसमें कोई अगर मगर नहीं होता।

समंदर की गहराई सब में होती है
बस नापने का ही हुनर नहीं होता।

दो चार परिंदे भी तो हों शाखों पर
ऐसे ही मुकम्मल शजर नहीं होता।

दादा की तस्वीर ये याद दिलाती है
गाँव नहीं होता तो शहर नहीं होता।

शिवलिंगों पे ये सारे बाँध दिए जाते
इन नागों में अगर ज़हर नहीं होता।

#नीलाभ

Posted by | View Post | View Group