पेड़ कटते हैं …

पेड़ कटते हैं
छिलते हैं
बनते हैं कागज !

अखबार बन
जब पहुँचते हैं घर
मैं हैरान होता हूं
देख कुछ विज्ञापनों को !

पेड़ बचाओ
लिखा होता है
हरे रंग में !

जैसे मार कर मुझे
मेरी खाल पे
खून से मेरे लिखा हो
बचाओ इसे!

#नीलाभ

पेड़ कटते हैं
छिलते हैं
बनते हैं कागज !

अखबार बन
जब पहुँचते हैं घर
मैं हैरान होता हूं
देख कुछ विज्ञापनों को !

पेड़ बचाओ
लिखा होता है
हरे रंग में !

जैसे मार कर मुझे
मेरी खाल पे
खून से मेरे लिखा हो
बचाओ इसे!

#नीलाभ

Posted by | View Post | View Group

तेरे चेहरे को …

तेरे चेहरे को जुल्फों ने ढाँप दिया
अलसाए चाँद का बादलों ने साथ दिया।

अकेले भँवर से लड़ जो किनारे पहुँचे
कितनों ने थामने को अपना हाथ दिया।

हिंदू , मुस्लिम , बौद्ध , सिक्ख , ईसाई
कितने टुकड़ों में लोगों को बाँट दिया।

हर ख़्वाहिश जो पूरी कर पाता नहीं
हमारी आँखों को ख़ुदा ने ख़्वाब दिया।

#नीलाभ

तेरे चेहरे को जुल्फों ने ढाँप दिया
अलसाए चाँद का बादलों ने साथ दिया।

अकेले भँवर से लड़ जो किनारे पहुँचे
कितनों ने थामने को अपना हाथ दिया।

हिंदू , मुस्लिम , बौद्ध , सिक्ख , ईसाई
कितने टुकड़ों में लोगों को बाँट दिया।

हर ख़्वाहिश जो पूरी कर पाता नहीं
हमारी आँखों को ख़ुदा ने ख़्वाब दिया।

#नीलाभ

Posted by | View Post | View Group

कब ठीक होते है हाल …

कब ठीक होते है हाल किसी के पूछने से
बस तसल्ली हो जाती है कोई फिकरमंद है अपना।
.
SHoaiB

कब ठीक होते है हाल किसी के पूछने से
बस तसल्ली हो जाती है कोई फिकरमंद है अपना।
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

फूलों मे इश्क था …

फूलों मे इश्क था किताबों में इश्क था…
वो कोई और दौर था जब ख्वाबों में इश्क था.
.
SHoaiB

फूलों मे इश्क था किताबों में इश्क था…
वो कोई और दौर था जब ख्वाबों में इश्क था.
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

इश्क़ लिखना है.. …

इश्क़ लिखना है..
तेरा नाम लिख दूँ क्या..? 😍
.
SHoaiB

इश्क़ लिखना है..
तेरा नाम लिख दूँ क्या..? 😍
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

प्रेम बचपन में …

प्रेम बचपन में मुफ्त मिलता है, जवानी में कमाना पड़ता है और बुढ़ापे में माँगना पड़ता है..😎

प्रेम बचपन में मुफ्त मिलता है, जवानी में कमाना पड़ता है और बुढ़ापे में माँगना पड़ता है..😎

Posted by | View Post | View Group

जिधर की हवा हो ,ये …

जिधर की हवा हो ,ये उधर जाएगी
शोहरत इक बर्फ़ है ,पिघल जाएगी।

जिंदगी को पकड़ कर रखना है क्यूँ
यह मुट्ठी की रेत है,फिसल जाएगी।

ख्वाहिशों की फितरत बदलती नहीं
जो इक पूरी हो,दूसरी मचल जाएगी।

कभी बेउम्मीद नज़रों से तो देख मुझे
सोच मेरे बारे में तेरी बदल जाएगी।

क्यूँ मुस्कुरा रहा है गुलमोहर गली का
क्या इस रस्ते से मेरी गज़ल जाएगी।

#नीलाभ

जिधर की हवा हो ,ये उधर जाएगी
शोहरत इक बर्फ़ है ,पिघल जाएगी।

जिंदगी को पकड़ कर रखना है क्यूँ
यह मुट्ठी की रेत है,फिसल जाएगी।

ख्वाहिशों की फितरत बदलती नहीं
जो इक पूरी हो,दूसरी मचल जाएगी।

कभी बेउम्मीद नज़रों से तो देख मुझे
सोच मेरे बारे में तेरी बदल जाएगी।

क्यूँ मुस्कुरा रहा है गुलमोहर गली का
क्या इस रस्ते से मेरी गज़ल जाएगी।

#नीलाभ

Posted by | View Post | View Group

मुझ नासमझ की …

मुझ नासमझ की ज़िंदगी में,
कुछ समझदार लोगो की कमी है !
.
SHoaiB

मुझ नासमझ की ज़िंदगी में,
कुछ समझदार लोगो की कमी है !
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

ऐ दर्द-ए-इश्क़ तुझ …

ऐ दर्द-ए-इश्क़ तुझ से मुकरने लगा हूँ मैं,
मुझ को संभाल हद से गुज़रने लगा हूँ मैं,
~जांनिसार अख़्तर😎

ऐ दर्द-ए-इश्क़ तुझ से मुकरने लगा हूँ मैं,
मुझ को संभाल हद से गुज़रने लगा हूँ मैं,
~जांनिसार अख़्तर😎

Posted by | View Post | View Group

मैं इस तरह से …

मैं इस तरह से हारूँगा…!!!

तुम जीत कर भी पछताओगे…★Rv

मैं इस तरह से हारूँगा…!!!

तुम जीत कर भी पछताओगे…★Rv

Posted by | View Post | View Group