Gulab

J

Advertisements

सोच रहा हूँ मर ही जाऊ आज…

शायद कब्र पर ही कोई गुलाब ले आये…!

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Gulab

J

सोच रहा हूँ मर ही जाऊ आज…

शायद कब्र पर ही कोई गुलाब ले आये…!

Posted by | View Post | View Group

Sehar

तुम न आए तो क्या सहर न हुई
हाँ मगर चैन से बसर न हुई
मेरा नाला सुना ज़माने ने
एक तुम हो जिसे ख़बर न हुई

Posted by | View Post | View Group

Kucha

पीनस* में गुज़रते हैं जो कूचे से वो मेरे 
कंधा भी कहारों को बदलते नहीं देते

*पालकी
मिर्ज़ा ग़ालिब

Posted by | View Post | View Group

Kucha

पीनस* में गुज़रते हैं जो कूचे से वो मेरे 
कंधा भी कहारों को बदलते नहीं देते

*पालकी
मिर्ज़ा ग़ालिब

Posted by | View Post | View Group

Mehndi

हथेलियों पर मेहँदी का ज़ोर ना डालिये,
दब के मर जाएँगी मेरे नाम कि लकीरें…

Posted by | View Post | View Group

Patthar

तू भी हीरे से बन गया पत्थर
हम भी कल जाने क्या से क्या हो जाएँ

Posted by | View Post | View Group

Janaza

जनाजा मेरा देखकर….बोली वो….!!
वो ही मरा क्या, जो मुझ पर मरता था….!!!

Posted by | View Post | View Group

Aadat

दिल जलाने की आदत उनकी आज भी नहीं गयी;
वो आज भी फूल बगल वाली कब्र पर रख जाते हैं।

Posted by | View Post | View Group

Umr

उम्र एक तल्ख़ हक़ीकत है ‘मुनव्वर’ फिर भी
जितना तुम बदले हो उतना नहीं बदला जाता ।
सबके कहने से इरादा नहीं बदला जाता,
हर सहेली से दुपट्टा नहीं बदला जाता ।।

Posted by | View Post | View Group