Sitam ki rasmein bahut thi lekin

सितम की रस्में बहुत थीं लेकिन, न थी तेरी अंजुमन से पहले

सज़ा खता-ए-नज़र से पहले, इताब ज़ुर्मे-सुखन से पहले 

जो चल सको तो चलो के राहे-वफा बहुत मुख्तसर हुई है
मुक़ाम है अब कोई न मंजिल, फराज़े-दारो-रसन से पहले 

नहीं रही अब जुनूं की ज़ंजीर पर वह पहली इजारदारी
गिरफ्त करते हैं करनेवाले खिरद पे दीवानपन से पहले 

करे कोई तेग़ का नज़ारा, अब उनको यह भी नहीं गवारा
ब-ज़िद है क़ातिल कि जाने-बिस्मिल फिगार हो जिस्मो-तन से पहले 

गुरूरे-सर्वो-समन से कह दो के फिर वही ताज़दार होंगे
जो खारो-खस वाली-ए-चमन थे, उरूजे-सर्वो-समन से पहले 

इधर तक़ाज़े हैं मसहलत के, उधर तक़ाज़ा-ए-दर्द-ए-दिल है
ज़बां सम्हाले कि दिल सम्हाले, असीर ज़िक्रे-वतन से पहले

Faiz ahmed faiz

Posted by | View Post | View Group

Shafaq ki raakh mein jal bujh gaya sitara e shaam

शफ़क़ की राख में जल-बुझ गया सितारा-ए-शाम

शबे-फ़िराक़ के गेसू फ़ज़ा में लहराये 

कोई पुकारो कि इक उम्र होने आयी है
फ़लक़ को क़ाफ़िला-ए-रोज़ो-शाम ठहराये 

ये ज़िद है यादे-हरीफ़ाने-बादा पैमां की
कि शब को चांद न निकले, न दिन को अब्र आये 

सबा ने फिर दरे-ज़िंदां पे आ के दी दस्तक
सहर क़रीब है, दिल से कहो न घबराये

Faiz ahmed faiz

Posted by | View Post | View Group

Sitam Ki rasmein bahut thi

सितम की रस्में बहुत थीं लेकिन, न थी तेरी अंजुमन से पहले

सज़ा खता-ए-नज़र से पहले, इताब ज़ुर्मे-सुखन से पहले 

जो चल सको तो चलो के राहे-वफा बहुत मुख्तसर हुई है
मुक़ाम है अब कोई न मंजिल, फराज़े-दारो-रसन से पहले 

नहीं रही अब जुनूं की ज़ंजीर पर वह पहली इजारदारी
गिरफ्त करते हैं करनेवाले खिरद पे दीवानपन से पहले 

करे कोई तेग़ का नज़ारा, अब उनको यह भी नहीं गवारा
ब-ज़िद है क़ातिल कि जाने-बिस्मिल फिगार हो जिस्मो-तन से पहले 

गुरूरे-सर्वो-समन से कह दो के फिर वही ताज़दार होंगे
जो खारो-खस वाली-ए-चमन थे, उरूजे-सर्वो-समन से पहले 

इधर तक़ाज़े हैं मसहलत के, उधर तक़ाज़ा-ए-दर्द-ए-दिल है
ज़बां सम्हाले कि दिल सम्हाले, असीर ज़िक्रे-वतन से पहले

Faiz Ahmed faiz

Posted by | View Post | View Group

Wo log bohat khushkismat the

वो लोग बोहत खुश-किस्मत थे

जो इश्क़ को काम समझते थे
या काम से आशिकी करते थे

हम जीते जी मसरूफ रहे
कुछ इश्क़ किया, कुछ काम किया
काम इश्क के आड़े आता रहा
और इश्क से काम उलझता रहा
फिर आखिर तंग आ कर हमने
दोनों को अधूरा छोड दिया

Faiz ahmed faiz

Posted by | View Post | View Group

Kab thehrega dard e dil kab raat basar hogi

कब ठहरेगा दर्द-ए-दिल, कब रात बसर होगी

सुनते थे वो आयेंगे, सुनते थे सहर होगी

कब जान लहू होगी, कब अश्क गुहार होगा
किस दिन तेरी शनवाई, ऐ दीदा-ए-तर होगी

कब महकेगी फसले-गुल, कब बहकेगा मयखाना
कब सुबह-ए-सुखन होगी, कब शाम-ए-नज़र होगी

वाइज़ है न जाहिद है, नासेह है न क़ातिल है
अब शहर में यारों की, किस तरह बसर होगी

कब तक अभी रह देखें, ऐ कांटे-जनाना
कब अश्र मुअय्यन है, तुझको तो ख़बर होगी

Faiz ahmed faiz

Posted by | View Post | View Group

Baat bas se nikal chali hai

बात बस से निकल चली है

दिल की हालत सँभल चली है

जब जुनूँ हद से बढ़ चला है
अब तबीअ’त बहल चली है

अश्क़ ख़ूँनाब हो चले हैं
ग़म की रंगत बदल चली है

या यूँ ही बुझ रही हैं शमएँ
या शबे-हिज़्र टल चली है

लाख पैग़ाम हो गये हैं
जब सबा एक पल चली है

जाओ, अब सो रहो सितारो
दर्द की रात ढल चली है

faiz ahmed faiz

Posted by | View Post | View Group

Chalo fir se muskuraye

चलो फिर से मुस्कुराएं

चलो फिर से दिल जलाएं

जो गुज़र गयी हैं रातें
उन्हें फिर जगा के लाएं
जो बिसर गयी हैं बातें
उन्हें याद में बुलायें
चलो फिर से दिल लगायें
चलो फिर से मुस्कुराएं

किसी शह-नशीं पे झलकी
वो धनक किसी क़बा की
किसी रग में कसमसाई
वो कसक किसी अदा की
कोई हर्फे-बे-मुरव्वत
किसी कुंजे-लब से फूटा
वो छनक के शीशा-ए-दिल
तहे-बाम फिर से टूटा

ये मिलन की, नामिलन की
ये लगन की और जलन की
जो सही हैं वारदातें
जो गुज़र गयी हैं रातें
जो बिसर गयी हैं बातें
कोई इनकी धुन बनाएं
कोई इनका गीत गाएं
चलो फिर से मुस्कुराएं
चलो फिर से दिल लगाएं

Faiz ahmed faiz

Posted by | View Post | View Group

Qarz e nigah e yaar ada kar chuke hai ham

क़र्ज़-ए-निगाह-ए-यार अदा कर चुके हैं हम

सब कुछ निसार-ए-राह-ए-वफ़ा कर चुके हैं हम 

कुछ इम्तहान-ए-दस्त-ए-जफ़ा कर चुके हैं हम
कुछ उनकी दस्तरस का पता कर चुके हैं हम 

अब एहतियात की कोई सूरत नहीं रही
क़ातिल से रस्म-ओ-राह सिवा कर चुके हैं हम 

देखें है कौन-कौन, ज़रूरत नहीं रही
कू-ए-सितम में सबको ख़फ़ा कर चुके हैं हम 

अब अपना इख़्तियार है चाहे जहाँ चलें
रहबर से अपनी राह जुदा कर चुके हैं हम 

उनकी नज़र में क्या करें फीका है अब भी रंग
जितना लहू था सर्फ़
-ए-क़बा कर चुके हैं हम 

कुछ अपने दिल की ख़ू का भी शुक्रान चाहिये
सौ बार उनकी ख़ू का गिला कर चुके हैं हम

faiz ahmed faiz

Posted by | View Post | View Group

Aaj yoon mauz dar mauz gham tham gaya

आज यूँ मौज-दर-मौज ग़म थम गया

इस तरह ग़मज़दों को क़रार आ गया
जैसे खु़शबू-ए-जु़ल्फ़-ए-बहार आ गयी
जैसे पैग़ाम-ए-दीदार-ए-यार आ गया

जिसकी दीदो-तलब वहम समझे थे हम
रू-ब-रू फिर से सरे-रहगुज़र आ गए
सुबह-ए-फ़र्दा को फिर दिल तरसने लगा
उम्र-रफ़्तः  तेरा ऐतबार आ गया

रुत बदलने लगी रंजे-दिल देखना
रंगे-गुलशन से अब हाल खुलता नहीं
ज़ख़्म छलका कोई या गुल खिला
अश्क उमड़े कि अब्र-ए-बहार आ गया

खू़न-ए-उश्शाक़ से जाम भरने लगे
दिल सुलगने लगे, दाग़ जलने लगे
महफ़िल-ए-दर्द फिर रंग पर आ गयी
फिर शब-ए-आरज़ू पर निखार आ गया

सरफरोशी के अंदाज़ बदलते गए
दावत-ए-क़त्ल पर मक़्ताल-ए-शहर में
डालकर कोई गर्दन में तौक़ आ गया
लादकर कोई काँधे पे दार आ गया

‘फ़ैज़’ क्या जानिए यार किस आस पर
मुन्तज़िर हैं कि लाएगा कोई ख़बर
मयकशों पर हुआ मुहतसिब मेहरबान
दिलफ़िगारों पे क़ातिल को प्यार आ गया

faiz ahmad faiz

Posted by | View Post | View Group

Wahi hai dil ke qaraen tamam kehte hai

वहीं हैं, दिल के क़राइन तमाम कहते हैं

वो इक ख़लिश कि जिसे तेरा नाम कहते हैं 

तुम आ रहे हो कि बजती हैं मेरी ज़ंजीरें
न जाने क्या मेरे दीवारो-बाम कहते हैं 

यही कनारे-फ़लक का सियहतरीं गोशा
यही है मतलए-माहे-तमाम कहते हैं 

पियो कि मुफ्त लगा दी है ख़ूने-दिल की क़शीद
गरां है अब के मये-लालफ़ाम कहते हैं 

फ़क़ीहे-शहर से मय का जवाज़ क्या पूछें
कि चांदनी को भी हज़रत हराम कहते हैं 

नवा-ए-मुर्ग़ को कहते हैं अब ज़ियाने-चमन
खिले न फूल इसे इन्तज़ाम कहते हैं 

कहो तो हम भी चलें फ़ैज़ अब नहीं सरे-दार
वो फ़र्क़-मर्तबा-ए-ख़ासो-आम कहते हैं

faiz ahmed faiz

Posted by | View Post | View Group