Hum bhi dariya hai

हम भी दरिया हैं, हमें अपना हुनर मालूम है
जिस तरफ भी चल पड़ेंगे, रास्ता हो जाएगा

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Sar jhukaoge to patthar devta ho jayega

सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा
इतना मत चाहो उसे, वो बेवफ़ा हो जाएगा

हम भी दरिया हैं, हमें अपना हुनर मालूम है
जिस तरफ भी चल पड़ेंगे, रास्ता हो जाएगा

कितनी सच्चाई से मुझसे, ज़िन्दगी ने कह दिया
तू नहीं मेरा तो कोई दूसरा हो जाएगा

मैं खुदा का नाम लेकर, पी रहा हूं दोस्तों
ज़हर भी इसमें अगर होगा, दवा हो जाएगा
सब उसी के हैं, हवा, ख़ुशबू, ज़मीन-ओ-आसमां
मैं जहां भी जाऊंगा, उसको पता हो जाएगा
बशीर बद्र

 

Sar jhukaoge to patthar devta ho jayega
Itna mat chaaho use wo bewafa ho jayega

Ham bhi dariya hain hamein apna hunar maloom hai
Jis taraf bhi chal padenge raasta ho jayega

Kitni sacchai se mujh se zindagi ne kah diya
Tu nahin mera to koi doosra ho jayega

Main khuda ka naam lekar pee raha hun dosto
Zahr bhi is mein agar hoga dawa ho jayega

Sab usi key hain hawa, khushboo, zameen-o-aasman
Main jahaan bhi jaunga usko pata ho jayega

 

Bashir Badr

Posted by | View Post | View Group

Yun Hee Besabab Na Phira Karo

यूं ही बेसबब न फिरा करो, कोई शाम घर भी रहा करो
वो ग़ज़ल की सच्ची किताब है, उसे चुपके-चुपके पढ़ा करो
कोई हाथ भी न मिलाएगा, जो गले मिलोगे तपाक से
ये नए मिज़ाज का शहर है, ज़रा फ़ासले से मिला करो
अभी राह में कई मोड़ हैं, कोई आएगा, कोई जाएगा
तुम्हें जिसने दिल से भुला दिया, उसे भूलने की दुआ करो
मुझे इश्तिहार-सी लगती हैं, ये मोहब्बतों की कहानियां
जो कहा नहीं, वो सुना करो, जो सुना नहीं, वो कहा करो
ये ख़िज़ां की ज़र्द-सी शाल में, जो उदास पेड़ के पास है

ये तुम्हारे घर की बहार है, इसे आंसुओं से हरा करो

बशीर बद्र 

——————————————————————————————
Yun Hee Besabab Na Phira Karo, Koi Shaam Ghar Bhi Raha Karo
Wo Ghazal Ki Sachchi Kitaab Hai, Use Chupke Chupke Padha Karo
Koi Haath Bhi Na Milaayega Jo Gale Miloge Tapaak Se
Ye Naye Mizaaj Ka Shehar Hai Zara Faasle Se Mila Karo
Abhi Raah Mein Kayee Mod Hain, Koi Aayega Koi Jaayega
Tumehin Jis Ne Dil Se Bhula Diya, Use Bhoolne Ki Dua Karo
Mujhe Ishtihaar Si Lagti Hain Ye Mohabbaton Ki Kahaaniyan
Jo Kaha Nahin Wo Suna Karo, Jo Suna Nahin Wo Kaha Karo
Kabhi Husn-e-Pardanashin Bhi Ho Zara Aashikaana Libaas Mein
Jo Main Ban Sanwar Ke Kahin Chaloon, Mere Saath Tum Bhi Chala Karo
Ye Khizaa Ki Zard Si Shaal Mein, Jo Udaas Ped Ke Paas Hai

Ye Tumhare Ghar Ki Bahaar Hai, Ise Aansuon Se Hara Karo

Bashir Badr

 

Posted by | View Post | View Group

Agar talaash karu

अगर तलाश करूँ कोई मिल ही जायेगा
मगर तुम्हारी तरह कौन मुझे चाहेगा
तुम्हें ज़रूर कोई चाहतों से देखेगा
मगर वो आँखें हमारी कहाँ से लायेगा
ना जाने कब तेरे दिल पर नई सी दस्तक हो
मकान ख़ाली हुआ है तो कोई आयेगा
मैं अपनी राह में दीवार बन के बैठा हूँ
अगर वो आया तो किस रास्ते से आयेगा
तुम्हारे साथ ये मौसम फ़रिश्तों जैसा है

तुम्हारे बाद ये मौसम बहुत सतायेगा

बशीर बद्र 

——————————————————————————————
Agar talaash karun koi mil hi jayega
Magar tumhari tarah kaun mujhko chahega
Tumhen zaroor koi chahaton se dekhega
Magar wo aankhen hamaari kahan se layega
Na jane kab tire dil par nayi si dastak ho
Makaan khali hua hai to koi ayega
Main apni raah mein deewar ban key baitha hun
Agar wo aaya to kis raaste se ayega
Tumhare saath ye mausam farishton jaisa hai

Tumhare baad ye mausam bahut sataayega

Bashir Badr 

 

Posted by | View Post | View Group

Log toot jaate hain

लोग टूट जाते हैं, एक घर बनाने में
तुम तरस नहीं खाते, बस्तियाँ जलाने में
और जाम टूटेंगे, इस शराबख़ाने में
मौसमों के आने में, मौसमों के जाने में
हर धड़कते पत्थर को, लोग दिल समझते हैं
उम्र बीत जाती है, दिल को दिल बनाने में
फ़ाख़्ता की मजबूरी ,ये भी कह नहीं सकती
कौन साँप रखता है, उसके आशियाने में
दूसरी कोई लड़की, ज़िंदगी में आएगी

कितनी देर लगती है, उसको भूल जाने में

बशीर बद्र 

——————————————————————————————–
Log toot jaate hain, ek ghar banaane mein
Log toot jaate hain, ek ghar banaane mein
Tum taras nahin khate, bastiyaan jalaane mein
Aur jaam tootenge, is sharaabkhaane mein
Mausmon ke aane mein, mausmon ke jane mein
Har dharhkate patthar ko, log dil samajhte hain
Umar beet jaati hain, dil ko dil banaane mein
Fakhtaa ki majboori, ye bhi kah nahin sakti
kaun saanp rakhta hain, uske aashiyane mein
Doosri koi ladki, zindgi mein aayegi

kitni der lagti hain, usko bhool jane mein

Bashir Badr

 

Posted by | View Post | View Group