Wasl

कट गई झगड़े में सारी रात वस्ल-ए-यार की
शाम को बोसा लिया था, सुबह तक तक़रार की 

Posted by | View Post | View Group

Palake

आँखों में तेरी ज़ालिम छुरियाँ छुपी हुई हैं 
देखा जिधर को तूने पलकें उठाके मारा

Posted by | View Post | View Group

Dil

हज़ारों दिल मसल कर पाँवों से झुँझला के फ़रमाया, 
लो पहचानो तुम्हारा इन दिलों में कौन सा दिल है ।

Posted by | View Post | View Group

Dil

हज़ारों दिल मसल कर पाँवों से झुँझला के फ़रमाया, 
लो पहचानो तुम्हारा इन दिलों में कौन सा दिल है ।

Posted by | View Post | View Group

Dil

ये दिल लेते ही शीशे की तरह पत्थर पे दे मारा, 
मैं कहता रह गया ज़ालिम मेरा दिल है, मेरा दिल है । 

Posted by | View Post | View Group

Fariyaad

दिल वो है कि फ़रियाद से लबरेज़ है हर वक़्त
हम वो हैं कि कुछ मुँह से निकलने नहीं देते

Posted by | View Post | View Group

Jannat

बाद मरने के मिली जन्नत ख़ुदा का शुक्र है 
मुझको दफ़नाया रफ़ीक़ों ने गली में यार की 

Posted by | View Post | View Group

Koi hus raha hai koi ro raha hai

कोई हँस रहा है कोई रो रहा है
कोई पा रहा है कोई खो रहा है

कोई ताक में है किसी को है गफ़लत
कोई जागता है कोई सो रहा है

कहीँ नाउम्मीदी ने बिजली गिराई
कोई बीज उम्मीद के बो रहा है

इसी सोच में मैं तो रहता हूँ ‘अकबर’
यह क्या हो रहा है यह क्यों हो रहा है

Akbar Ilahbaadi

Posted by | View Post | View Group

Peena

हंगामा है क्यूँ बरपा, थोड़ी सी जो पी ली है
डाका तो नहीं डाला, चोरी तो नहीं की है

Posted by | View Post | View Group