हसरत पूरी ना हों तो ना सही, ख्वाहिश करना कोई…

हसरत पूरी ना हों तो ना सही,
ख्वाहिश करना कोई गुनाह तो नहीं….!!

#Chandresh……………….!!

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

तलब ये है कि…. मैं सर रखूँ तेरे सीने पे…

तलब ये है कि…. मैं सर रखूँ तेरे सीने पे

और तमन्ना ये कि….मेरा नाम पुकारती हों धड़कनें तेरी

#Shona

Posted by | View Post | View Group

सफाईयाँ देना छोड़ दिया है मैंने, सीधी सी बात… बहुत…

सफाईयाँ देना छोड़ दिया है मैंने,
सीधी सी बात…
बहुत बुरा हूँ मैं……..!!

#Chandresh…………!!

Posted by | View Post | View Group

वो जो है दर्द की वजह .. वही ‘दवा’ भी…

वो जो है दर्द की वजह ..
वही ‘दवा’ भी क्यूँ है .. 💕

#MR_Chandresh…………..!!

Posted by | View Post | View Group

Kuchh #Vakht ke Bad #Lout ke Aaunga Abhi To #Dikkato…

Kuchh #Vakht ke Bad #Lout ke Aaunga Abhi To #Dikkato Se Ghira hua Hu !!

#Ummid Krta Hu Yad Rahunga Me !!

MR_Chandresh……………..!!

Posted by | View Post | View Group

जो Mujse #नफ़रत Karte हैं Sukun से करे…. मै Bhi…

जो Mujse #नफ़रत Karte हैं
Sukun से करे….

मै Bhi हर शख़्स ko #मुहब्बत के
Kabil नहीं समझता…☆Rv

Posted by | View Post | View Group

रूह तक Utar गया है Koi गम शायद,! मुस्कुराने ki…

रूह तक Utar गया है Koi गम शायद,!
मुस्कुराने ki हर Koshish नाकाम see है ….☆Rv

Posted by | View Post | View Group

कुछ अजीब सा रिश्ता हो गया है मेरे और उसके…

कुछ अजीब सा रिश्ता हो गया है
मेरे और उसके दरमियान,
ना नफरत हो रही है
और ना ही मोहब्बत…★Rv

Posted by | View Post | View Group

छई-छप-छई.. सुनो, याद है तुम्हें जब छपाक-छपाक करते हुए बारिशों…

छई-छप-छई..

सुनो,
याद है तुम्हें
जब छपाक-छपाक करते हुए
बारिशों
और बूँदों की होती
जुगलबंदी के बीच
भीगते हुए भी
तुम आ ही पहुँचा करती थीं,

और इतना ही नहीं
बड़ी मस्ती में
सड़क के गड्ढों और
किनारे भरे बारिश के पानी का
लुत्फ़ तो जैसे
तुम ही उठाती थीं,

जान-बूझकर
यूँ छपाक से
कूद जाया करती थीं
कि आसपास वालों की भी
हँसी निकल जाया करती थी
देखकर यूँ बचपना तुम्हारा,

लेकिन तुम तो तुम ठहरीं
कहाँ परवाह रही
ज़माने की तुम्हें
और बस
अपनी ही धुन में
उछलते-कूदते आ धमकतीं थीं,

अच्छा सुनो,
बहुत अरसा बीत चला
बारिशों के साथ गिरती
बेरंग सी बूँदें ही दिखती हैं
बरसती हैं और
बह जाया करती हैं,

यही मौसम
और यही बूँदें
तुम्हारे होते वक़्त
रंगीन सी मचलती सी लगती थीं
न जाने अब क्या हुआ है इन्हें,

क्यूँ न ऐसा करो
कभी आओ फ़िर से
वैसे ही उछलते-कूदते
चौंका देने को मुझे
और अपनी मस्ती बिखेर देने,

चलो,
बता देता हूँ
आज भी सड़क और
मेरे घर के बाहर भरा
बारिश का पानी
बाट जोहा करता है
तुम्हारी उसी मासूम और
मस्ती भरी उछल-कूद की ! 🌧

#Shona

Posted by | View Post | View Group