मैंने तो तुझसे …

मैंने तो तुझसे माँगा था थोड़ा सा उजाला…..!!!!

वाह रे चाहने वाले
तूने तो आग ही लगा दी यार…★Rv

Advertisements

मैंने तो तुझसे माँगा था थोड़ा सा उजाला…..!!!!

वाह रे चाहने वाले
तूने तो आग ही लगा दी यार…★Rv

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

लाइसेन्स बनवा लो …

लाइसेन्स बनवा लो तुम भी
अपनी नशीली निगाहों का
सुना है
अवैध कत्लखाने बंद हो रहे है….

#ऋषि की शायरी

लाइसेन्स बनवा लो तुम भी
अपनी नशीली निगाहों का
सुना है
अवैध कत्लखाने बंद हो रहे है….

#ऋषि की शायरी

Posted by | View Post | View Group

शायराना सी हैं …

Posted by | View Post | View Group

मौत भी मुझे गले …

मौत भी मुझे गले लगाकर वापिस चली गई बोली…

तुम अभी नही मरोगे प्यार किया है ना अभी और तडपोगे…😢😢

#ऋषि की शायरी

मौत भी मुझे गले लगाकर वापिस चली गई बोली…

तुम अभी नही मरोगे प्यार किया है ना अभी और तडपोगे…😢😢

#ऋषि की शायरी

Posted by | View Post | View Group

मैं दिनभर ना जाने …

मैं दिनभर ना जाने कितनों चेहरों से रूबरू होता हूँ पर पता नहीं रात को ख्याल सिर्फ तुम्हारा ही क्यों आता है…
#सचिन

मैं दिनभर ना जाने कितनों चेहरों से रूबरू होता हूँ पर पता नहीं रात को ख्याल सिर्फ तुम्हारा ही क्यों आता है…
#सचिन

Posted by | View Post | View Group

बदन की क़ैद से बाहर …

बदन की क़ैद से बाहर ठिकाना चाहता है…
अजीब दिल है कहीं और जाना चाहता है…
.
SHoaiB

बदन की क़ैद से बाहर ठिकाना चाहता है…
अजीब दिल है कहीं और जाना चाहता है…
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

नज़र घायल जिगर …

नज़र घायल जिगर छलनी जुबां पे सौ सौ ताले हैं..
मुहब्बत करने वालों के मुकद्दर भी निराले हैं…
#शुभप्रभात
#सचिन

नज़र घायल जिगर छलनी जुबां पे सौ सौ ताले हैं..
मुहब्बत करने वालों के मुकद्दर भी निराले हैं…
#शुभप्रभात
#सचिन

Posted by | View Post | View Group

अब तो इतवार में भी …

अब तो इतवार में भी कुछ यूँ हो गयी है मिलावट….

छुट्टी तो दिखती है पर सुकून नजर नहीं आता…. :))

#ऋषि

अब तो इतवार में भी कुछ यूँ हो गयी है मिलावट….

छुट्टी तो दिखती है पर सुकून नजर नहीं आता…. :))

#ऋषि

Posted by | View Post | View Group

मोहब्बत का ख़ुमार उतरा तो ये एहसास हुआ…, जिसे मंझिल…

मोहब्बत का ख़ुमार उतरा तो ये एहसास हुआ…,
जिसे मंझिल समझते थे, वो तो बेमक़सद रास्ता निकला!

रूह जिस्म का ठौर ठिकाना चलता रहता है जीना मरना…

रूह जिस्म का ठौर ठिकाना चलता रहता है
जीना मरना खोना पाना चलता रहता है

सुख दुख वाली चादर घटती वढती रहती है
मौला तेरा ताना वाना चलता रहता है

इश्क करो तो जीते जी मर जाना पड़ता है
मर कर भी लेकिन जुर्माना चलता रहता है

जिन नजरों ने काम दिलाया गजलें कहने का
आज तलक उनको नजराना चलता रहता है ……
#Kumar_viswas