Tankhwah

जरूरतें जिम्मेंदारियां और ख्वाहिशें…….,
यूं तीन हिस्सों में तनख्वाह की तरह बंट जाता हूँ….

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Insaaf

मुझे खुदा के इन्साफ पर उस दिन यकीन हो गया
जब मैंने अमीर और गरीब का एक जैसा कफ़न देखा

Posted by | View Post | View Group

Pareshaan

मुद्दतो बाद आज फिर परेशान हुआ है दिल,
जाने किस हाल में होगा मुझसे रुठने वाला…

Posted by | View Post | View Group

Kitaab

अंग्रेजी की किताब बन गई हो तुम
पसंद तो आती हो पर समझ मे नही

Posted by | View Post | View Group

Hunar

मुझे यकीन है अपने लफ्जो के हुनर पर…
कि लोग मेरा चेहरा भूल सकते है पर शेर नही…

Posted by | View Post | View Group

Sardiya

फिर पलट रही है सर्दियो की सुहानी शामें,
फिर उसकी याद में जलने का ज़माना आ गया

Posted by | View Post | View Group

Zakhm

मेरें जख्मों पर उसने भी मरहम लगाया, ये कहकर…
कि जल्दी से ठीक हो जाओ, अभी तो और भी जख्म देने बाकि है….

Posted by | View Post | View Group

Wajah

“मुझे छोड़कर जाने कि वज़ह तो बताओ
मेँ हर वज़ह बताऊँगा तुम्हेँ चाहने की”…

Posted by | View Post | View Group

Ashk

जिस तरह हँस रहा हूँ मैं पी-पी के अश्क-ए-ग़म 
यूँ दूसरा हँसे तो कलेजा निकल पड़े 

Posted by | View Post | View Group

Muhabbat

दिल में ना हो ज़ुर्रत तो मोहब्बत नहीं मिलती
ख़ैरात में इतनी बड़ी दौलत नहीं मिलती

Posted by | View Post | View Group