Nazar

न जाने कैसी नज़र लगी है ज़माने की,
अब कोई वजह नही मिलती मुस्कुराने की

Posted by | View Post | View Group

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply