Aap jab aankhon mein aakar baith jaate hai

आप जब आँखों में आकर बैठ जाते हैं

नींद के मुझसे फरिश्ते रुठ जाते हैं

आपके हँसने से मेरी साँस चलती है
आपके रोने पे तारे टूट जाते हैं

आपका जब पल दो पल का साथ मिलता है
मेरे पीछे सौ ज़माने छूट जाते हैं

आप जब मुझको इशारे से बुलाते हैँ
हम ख़ुशी में सच है चलना भूल जाते हैं

आपके संग होटोँ पे मुस्कान रहती है
आपके बिन हँसते पौधे सूख जाते हैं

रुठने से आपके तो कुछ नहीँ होता
जान जाती है मेरी जब दूर जाते हैं

आपकी नज़दीकियाँ मदहोश करती हैं
आपकी आँखों में सागर डूब जाते हैं ।

siraj faisal khan

Posted by | View Post | View Group

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply