Kafn par aansu girana chhod de

कफ़्न पर आँसू गिराना छोड़ दे ।

बेवफा अब तो बहाना छोड़ दे ।

नींद पर वर्ना सितम ढाऊँगा मैं,
मान जा ख़्वाबोँ मेँ आना छोड़ दे ।

शौक़ ये बर्बाद कर देगा तुझे,
तितलियों के पर जलाना छोड़ दे ।

अपना क़द दुनिया की नज़रों में बढ़ा,
मुझको नज़रों से गिराना छोड़ दे ।

दर्द पाएगा बहुत रोएगा तू,
ख़त किताबों में छुपाना छोड़ दे ।

कोशिशें कर जीतने की मुझसे तू
ख़्वाब में मुझको हराना छोड़ दे ।

हसरतों से आसमाँ मत देख तू
उड़ना है तो आशियाना छोड़ दे ।

इश्क से परहेज़ है जिसको भी, वो
मीर-ओ-ग़ालिब घराना छोड़ दे ।

अपनी फितरत किसने छोड़ी है ‘सिराज’
फूल कैसे मुस्कुराना छोड़ दे ।

siraj faisal khan

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply