Hadse sab ki hi kismat mein likhon kis kis par

हादसे सबकी ही क़िस्मत में लिखूँ किस-किस पर

सारी दुनिया है मुसीबत मेँ लिखूँ किस-किस पर

तेरे बारे में लिखूँ गर मिले फुर्सत ख़ुद से
मैं परीशाँ हूँ हक़ीक़त में लिखूँ किस-किस पर

इश्क़ “ग़ालिब” की अमानत है वफ़ा “साहिर” की
दिल तो है “मीर” की सोहबत में लिखूँ किस-किस पर

उम्र भर मन्दिर-ओ-मस्जिद से ही फ़ुर्सत ना मिली
ज़िन्दगी कट गई नफ़रत में लिखूँ किस-किस पर

Siraj faisal khan

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply