Naam

ना त-आरूफ़ ना त-अल्लुक हैं मगर दिल अक्सर
नाम सुनता हैं तुम्हारा तो उछल पड़ता हैं 

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply