Dil

हाले-दिल यार को लिखूँ क्यूँकर,
हाथ दिल से जुदा नहीं होता । 

Posted by | View Post | View Group

Leave a Reply