Ye jo zindgi ki kitab hai

ये जो ज़िन्दगी की किताब है ये किताब भी क्या किताब है|
कहीं इक हसीन सा ख़्वाब है कहीं जान-लेवा अज़ाब है| 

कहीं छाँव है कहीं धूप है कहीं और ही कोई रूप है,
कई चेहरे इस में छुपे हुए इक अजीब सी ये नक़ाब है|
 
कहीं खो दिया कहीं पा लिया कहीं रो लिया कहीं गा लिया,
कहीं छीन लेती है हर ख़ुशी कहीं मेहरबान बेहिसाब है|
 
कहीं आँसुओं की है दास्ताँ कहीं मुस्कुराहटों का बयाँ, 
कहीं बर्क़तों की है बारिशें कहीं तिश्नगी बेहिसाब है| 

Rajesh Reddy

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply