Zakhm jhele daagh bhi khaye bohat

ज़ख्म झेले दाग़ भी खाए बोहत
दिल लगा कर हम तो पछताए बोहत

दैर से सू-ए-हरम आया न टुक
हम मिजाज अपना इधर लाये बोहत

फूल, गुल, शम्स-ओ-क़मर सारे ही थे
पर हमें उनमें तुम ही भाये बोहत

रोवेंगे सोने को हमसाये बोहत

मीर से पूछा जो मैं आशिक हो तुम
हो के कुछ चुपके से शरमाये बोहत

Mir taqi mir

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply