Hamare aage tera jab kisi ne naam liya

हमारे आगे तेरा जब किसी ने नाम लिया 
दिल-ए-सितम-ज़दा को हमने थाम-थाम लिया

ख़राब रहते थे मस्जिद के आगे मयख़ाने
निगाह-ए-मस्त ने साक़ी की इंतक़ाम लिया

वो कज-रविश न मिला मुझसे रास्ते में कभू
न सीधी तरहा से उसने मेरा सलाम लिया

मेरे सलीक़े से मेरी निभी मोहब्बत में 
तमाम उम्र मैं नाकामियों से काम लिया

अगरचे गोशा-गुज़ीं हूँ मैं शाइरों में ‘मीर’
प’ मेरे शोर ने रू-ए-ज़मीं तमाम किया

Mir taqi mir

Posted by | View Post | View Group

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply