Wo chandni ka badan

वो चांदनी का बदन ख़ुशबुओं का साया है
बहुत अज़ीज़ हमें है मगर पराया है

Posted by | View Post | View Group

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply