सीमा ढह ही जाती है …

सीमा ढह ही जाती है
नज़र कह ही जाती है।

दुख की उम्र होती है
रात कट ही जाती है।

जमीं जब जायदाद हो
फिर बँट ही जाती है।

लहर की ये नियति है
टूट वो बह ही जाती है।

मर्यादा के भ्रम ख़ातिर
सीता सह ही जाती है।

#नीलाभ

Advertisements

सीमा ढह ही जाती है
नज़र कह ही जाती है।

दुख की उम्र होती है
रात कट ही जाती है।

जमीं जब जायदाद हो
फिर बँट ही जाती है।

लहर की ये नियति है
टूट वो बह ही जाती है।

मर्यादा के भ्रम ख़ातिर
सीता सह ही जाती है।

#नीलाभ

Posted by | View Post | View Group
Advertisements