ये समंदर है जो …

ये समंदर है जो इतना गहरा है
या जलपरी पे पानी का पहरा है।

कौरव पांडव दोनों भीतर ही हैं
और भीतर ही तो कृष्ण ठहरा है।

इस कहानी में जो राम रावण हैं
मेरा ही किरदार समझो दोहरा है।

आज आईने ने पहले डराया मुझे
और फिर बोला मेरा ही चेहरा है।

बातें न करो उससे आँखों से तुम
वो बेचारा आँखों से गूँगा बहरा है।

शक का बादल है तेरी आँखों पे
जो ये रिश्तों में दिखता कोहरा है।

#नीलाभ

ये समंदर है जो इतना गहरा है
या जलपरी पे पानी का पहरा है।

कौरव पांडव दोनों भीतर ही हैं
और भीतर ही तो कृष्ण ठहरा है।

इस कहानी में जो राम रावण हैं
मेरा ही किरदार समझो दोहरा है।

आज आईने ने पहले डराया मुझे
और फिर बोला मेरा ही चेहरा है।

बातें न करो उससे आँखों से तुम
वो बेचारा आँखों से गूँगा बहरा है।

शक का बादल है तेरी आँखों पे
जो ये रिश्तों में दिखता कोहरा है।

#नीलाभ

Posted by | View Post | View Group