सुनो…. …

सुनो….
क्यों न मैं ऐनक लगाऊं और तुम अखबार हो जाओ
क्यों न मैं फूरसत मे आऊं और तुम रविवार हो जाओ।
.
SHoaiB

सुनो….
क्यों न मैं ऐनक लगाऊं और तुम अखबार हो जाओ
क्यों न मैं फूरसत मे आऊं और तुम रविवार हो जाओ।
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group