कुछ लोग ख़यालों से …

कुछ लोग ख़यालों से चले जाएँ तो सोएँ

बीते हुए दिन रात न याद आएँ तो सोएँ

चेहरे जो कभी हम को दिखाई नहीं देंगे

आ आ के तसव्वुर में न तड़पाएँ तो सोएँ

बरसात की रुत के वो तरब-रेज़ मनाज़िर

सीने में न इक आग सी भड़काएँ तो सोएँ

सुब्हों के मुक़द्दर को जगाते हुए मुखड़े

आँचल जो निगाहों में न लहराएँ तो सोएँ

महसूस ये होता है अभी जाग रहे हैं

इलाहाबाद के सब यार भी सो जाएँ तो सोएँ
Now single 😑wanna mingle😆
Hai koi??
#Azhan

कुछ लोग ख़यालों से चले जाएँ तो सोएँ

बीते हुए दिन रात न याद आएँ तो सोएँ

चेहरे जो कभी हम को दिखाई नहीं देंगे

आ आ के तसव्वुर में न तड़पाएँ तो सोएँ

बरसात की रुत के वो तरब-रेज़ मनाज़िर

सीने में न इक आग सी भड़काएँ तो सोएँ

सुब्हों के मुक़द्दर को जगाते हुए मुखड़े

आँचल जो निगाहों में न लहराएँ तो सोएँ

महसूस ये होता है अभी जाग रहे हैं

इलाहाबाद के सब यार भी सो जाएँ तो सोएँ
Now single 😑wanna mingle😆
Hai koi??
#Azhan

Posted by | View Post | View Group