वो किसी की खातिर हमे भूल भी जाएँ तो क्या,…

वो किसी की खातिर हमे भूल भी जाएँ तो क्या,
हम भी तो भूल गए थे उनकी खातिर सारा जमाना.!!

Posted by | View Post | View Group

Author: admin

I just love Shayri

15 thoughts on “वो किसी की खातिर हमे भूल भी जाएँ तो क्या,…”

  1. #मतपूछ के कितनी #मोहब्बतहै तुझसे”ऐ बेखबर” #बारिशकी बूँदेभी तुझे छू लें, तो #दिलजलने लगता है…

  2. जिद मत करो मेरी दास्तान सुनने की….!
    मैं हँस कर कहुँगा तो भी तुम रोने लगोगे..!!

  3. इशक के दर्द ही कुछ ऐसा हैं…
    लोग जान दे देते हैं मगर इंतजार नहीं करते।।

  4. मुझे मेरे कल कि फिक्र तो आज भी नही है,
    पर ख्वाहिश तुझे पाने कि कयामत तक रहेगी.

  5. चित्रकार तुझे उस्ताद मानुँगा,
    दर्द भी खिंच मेरी तस्वीर के साथ।

Leave a Reply