Muhabbat ka junoon baaki nahi hai

मोहब्बत क जुनूँ बाक़ी नहीं है

मुसलमानों में ख़ून बाक़ी नहीं है

सफ़ें कज, दिल परेशन, सज्दा बेज़ूक
के जज़बा-ए-अंद्रून बाक़ी नहीं है

रगों में लहू बाक़ी नहीं है
वो दिल, वो आवाज़ बाक़ी नहीं है

नमाज़-ओ-रोज़ा-ओ-क़ुर्बानी-ओ-हज
ये सब बाक़ी है तू बाक़ी नहीं है 

Allama iqbal

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply