Tajjub se kehne lage babu saheb

तअज्जुब से कहने लगे बाबू साहब

गौरमेन्ट सैयद पे क्यों मेहरबाँ है

उसे क्यों हुई इस क़दर कामियाबी
कि हर बज़्म में बस यही दास्ताँ है

कभी लाट साहब हैं मेहमान उसके
कभी लाट साहब का वह मेहमाँ है

नहीं है हमारे बराबर वह हरगिज़
दिया हमने हर सीग़े का इम्तहाँ है

वह अंग्रेज़ी से कुछ भी वाक़िफ़ नहीं है
यहाँ जितनी इंगलिश है सब बरज़बाँ हैं

कहा हँस के ‘अकबर’ ने ऎ बाबू साहब
सुनो मुझसे जो रम्ज़ उसमें निहाँ हैं

नहीं है तुम्हें कुछ भी सैयद से निस्बत
तुम अंग्रेज़ीदाँ हो वह अंग्रेज़दाँ है

Akbar Allahbadi

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply