Hind mein to mazhabi halat hai ab nagufta beh

हिन्द में तो मज़हबी हालत है अब नागुफ़्ता बेह

मौलवी की मौलवी से रूबकारी हो गई

एक डिनर में खा गया इतना कि तन से निकली जान
ख़िदमते-क़ौमी में बारे जाँनिसारी हो गई

अपने सैलाने-तबीयत पर जो की मैंने नज़र
आप ही अपनी मुझे बेएतबारी हो गई

नज्द में भी मग़रिबी तालीम जारी हो गई
लैला-ओ-मजनूँ में आख़िर फ़ौजदारी हो गई


Akbar Allahbadi

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply