Garani e shabe hizran duchand kya karte

गरानी-ए-शबे-हिज़्रां दुचंद क्या करते

इलाजे-दर्द तेरे दर्दमन्द क्या करते 

वहीं लगी है जो नाज़ुक मुक़ाम थे दिल के
ये फ़र्क़ दस्ते-अदू के गज़ंद क्या करते 

जगह-जगह पे थे नासेह तो कू-ब-कू दिलबर
इन्हें पसंद, उन्हें नापसंद क्या करते 

हमीं ने रोक लिया पंजा-ए-जुनूं को वरना
हमें असीर ये कोताहकमन्द क्या करते 

जिन्हें ख़बर थी कि शर्ते-नवागरी क्या है
वो ख़ुशनवा गिला-ए-क़ैदो-बंद क्या करते 

गुलू-ए-इश्क़ को दारो-रसन पहुंच न सके
तो लौट आये तेरे सरबलंद, क्या करते

Faiz ahmed faiz

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply