Izze ahle sitam ki baat karo

इज्ज़े अहले-सितम की बात करो

इश्क़ के दम-क़दम की बात करो

बज़्मे-अहले-तरब से शरमाओ
बज़्मे-असहाबे-ग़म की बात करो

बज़्मे-सरवत के खुशनसीबों से
अज़्मते-चश्मे-नम की बात करो

है वही बात यूं भी और यूं भी
तुम सितम या करम की बात करो

ख़ैर, हैं अहले-दैर जैसे हैं
आप अहले-हरम की बात करो

हिज़्र की शब तो कट ही जायेगी
रोज़े-वस्ले-सनम की बात करो

जान जायेंगे जानने वाले
फ़ैज़ फ़रहादो-जम की बात करो

Faiz ahmed faiz

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply