Rahe khizan mein talash e bahaar karte rahe

रहे ख़िज़ां मे तलाशे-बहार करते रहे

शबे-सियह से तलब हुस्ने-यार करते रहे 

ख़याले-यार, कभी ज़िक्रे-यार करते रहे
इसी मता पे हम रोज़गार करते रहे 

नहीं शिकायते-हिज़्रां कि इस वसीले से
हम उनसे रिश्ता-ए-दिल उस्तवार करते रहे 

वो दिन कि कोई भी जब वजहे-इन्तज़ार न थी
हम उनमे तेरा सिवा इन्तज़ार करते रहे 

हम अपने राज़ पे नाज़ां थे शर्मसार न थे
हर एक से सुख़ने-राज़दार करते रहे 

ज़िया-ए-बज़्मे-जहां बार-बार मांद हुई
हदीसे-शोलारुख़ां बार-बार करते रहे 

उन्ही के फ़ैज़ से बाज़ारे-अक़्ल रौशन है
जो गाह-गाह जुनूं इख्तियार करते रहे

Faiz ahmed faiz

Posted by | View Post | View Group

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply