Wo ahdey gham ki kahishaha

वो अहदे-ग़म की काहिशहा-ए-बेहासिल को क्या समझे

जो उनकी मुख़्त्सर रूदाद भी सब्र-आज़मा समझे 

यहां वाबस्तगी, वां बरहमी, क्या जानिये क्यों है
न हम अपनी नज़र समझे, न हम उनकी अदा समझे 

फ़रेबे-आरज़ू की सहल-अंगारी नहीं जाती
हम अपने दिल की धड़कन को तेरी आवाज़े-पा समझे 

तुम्हारी हर नज़र से मुनसलिक है रिस्ता-ए-हस्ती
मगर ये दूर की बातें, कोई नदान क्या समझे 

न पूछो अहदे-उल्फत की, बस एक ख़्वाबे-परीशां था
न दिल को राह पर लाये, न दिल का मुद्दआ समझे

Faiz ahmed faiz

Posted by | View Post | View Group

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply