Baadal barsen

बादल बरसें 

बादल इतनी ज़ोर से बरसें

मेरे शहर की बंजर धरती 
गुम सुम खाक उड़ाते रस्ते 
सुखाए चेहरे पीली अंखियन 
बोसीदा मटियाले पैकर ऐसी बहकें 
अपने को पहचान न पाएँ

बिजली चमके !
बिजली इतनी ज़ोर की चमके!
मेरे शहर की सूनी गलियाँ 
मुद्दत्त के तारीक झरोखे 
पुर’इसरार खंडहर वीराने
माज़ी की मद्धम तस्वीरें ऐसी चमकें
सीने का हर भेद ऊगल दें!

दिल भी धड़के 
दिल भी इतनी ज़ोर से धड़के!
सोचों की मजबूत तनाबे 
ख्वाहिश की अनदेखी गिरहें 
रिश्तों की बोझल ज़ंजीरें एक छंके से खुल जाएँ …
सराय रिश्ते 
सारे बंधन 
चाहूँ भी तो याद ना आएँ 
आखें अपनी दीद को तरसें 

बादल इतने ज़ोर से बरसें

Mohsin naqvi

Posted by | View Post | View Group

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply