Jab bhi tanhai se ghabrake simat jaate hai

जब भी तन्हाई से घबराके सिमट जाते हैं
हम तेरी याद के दामन से लिपट जाते हैं

उनपे तूफान को भी अफ़सोस हुआ करता है
वो सफीने जो किनारों पे उलट जाते हैं

हम तो आए थे राहे साख में फूलों की तरह
तुम अगर हार समझते हो तो हट जाते हैं

Sudarshan Faakir

Posted by | View Post | View Group

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply