Rahi hai dad talab unki shokhiyan hamse

रही है दाद तलब उनकी शोख़ियाँ हमसे 
अदा शनास तो बहुत हैं मगर कहाँ हमसे

सुना दिये थे कभी कुछ गलत-सलत क़िस्से 
वो आज तक हैं उसी तरह बदगुमाँ हमसे 

ये कुंज क्यूँ ना ज़िआरत गहे मुहब्बत हो 
मिले थे वो इंहीं पेड़ों के दर्मियाँ हमसे 

हमीं को फ़ुरसत-ए-नज़्ज़ारगी नहीं वरना 
इशारे आज भी करती हैं खिड़कियाँ हमसे 

हर एक रात नशे में तेरे बदन का ख़याल 
ना जाने टूट गई कई सुराहियाँ हमसे

Jaan nissar akhtar

Posted by | View Post | View Group

Leave a Reply