Suna karo meri jaan

सुना करो मेरी जाँ इन से उन से अफ़साने 
सब अजनबी हैं यहाँ कौन किस को पहचाने

यहाँ से जल्द गुज़र जाओ क़ाफ़िले वालों 
हैं मेरी प्यास के फूँके हुए ये वीराने 

मेरी जुनून-ए-परस्तिश से तंग आ गये लोग 
सुना है बंद किये जा रहे हैं बुत-ख़ाने 

जहाँ से पिछले पहर कोई तश्ना-काम उठा 
वहीं पे तोड़े हैं यारों ने आज पैमाने 

बहार आये तो मेरा सलाम कह देना 
मुझे तो आज तलब कर लिया है सेहरा ने 

सिवा है हुक़्म कि “कैफ़ी” को संगसार करो 
मसीहा बैठे हैं छुप के कहाँ ख़ुदा जाने 

Kaifi azmi

Posted by | View Post | View Group

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply