Koi bhi daar se zinda nahi utarta hai

कोई भी दार से ज़िंदा नहीं उतरता है
मगर जुनून हमारा नहीं उतरता है

तबाह कर दिया अहबाब को सियासत ने
मगर मकान से झण्डा नहीं उतरता है

मैं अपने दिल के उजड़ने की बात किस से कहूँ
कोई मिज़ाज पे पूरा नहीं उतरता है

कभी क़मीज के आधे बटन लगाते थे
और अब बदन से लबादा नहीं उतरता है

मुसालेहत के बहुत रास्ते हैं दुनिया में
मगर सलीब से ईसा नहीं उतरता है

जुआरियों का मुक़द्दर ख़राब है शायद
जो चाहिए वही पत्ता नहीं उतरता है

Shakeel zamaali

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Author: admin

I just love Shayri

Leave a Reply