Kucha

पीनस* में गुज़रते हैं जो कूचे से वो मेरे 
कंधा भी कहारों को बदलते नहीं देते

*पालकी
मिर्ज़ा ग़ालिब

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

Leave a Reply