Na badle aadmi jannat se bhi baitul-hajan apna

न बदले आदमी जन्नत से भी बैतुल-हज़न अपना
कि अपना घर है अपना और है अपना वतन अपना

जो यूँ हो वस्ल तो मिट जाए सब रंजो-महन अपना
ज़बाँ अपनी दहन उनका ज़बाँ उनकी दहन अपना

न सीधी चाल चलते हैं न सीधी बात करते हैं
दिखाते हैं वो कमज़ोरों को तन कर बाँकपन अपना

अजब तासीर पैदा की है वस्फ़े-नोके-मिज़गाँ ने
कि जो सुनता है उसके दिल में चुभता है सुख़न अपना

पयामे-वस्ल, क़ासिद की ज़बानी और फिर उनसे
ये नादानी वो नाफ़हमी ये था दीवानापन अपना

Daag Dehalvi

बचा रखना जुनूँ के हाथ से ऐ बेकसो, उसको
जो है अब पैरहन अपना वही होगा क़फ़न अपना

निगाहे-ग़म्ज़ा कोई छोड़ते हैं गुलशने दिल को
कहीं इन लूटने वालों से बचता है चमन अपना

यह मौका मिल गया अच्छा उसे तेशा लगाने का
मुहब्बत में कहीं सर फोड़ता फिर कोहकन अपना

जो तख़्ते-लाला-ओ-गुल के खिले वो देख लेते हैं
तो फ़रमाते हैं वो कि ‘दाग़’ का ये है ये चमन अपना

Posted by | View Post | View Group

Leave a Reply